त्रिपुरा के 6 विधायक गुरुवार को कोविंद से मिलेंगे

राजग के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के बाद तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी द्वारा पार्टी से बाहर किए गए छह विधायक कोविंद से गुरुवार को गुवाहाटी में मुलाकात करेंगे। यह जानकारी एक विधायक ने दी है। तृणमूल की राज्य इकाई के अध्यक्ष पद से बुधवार को इस्तीफा दे चुके विधायक आशीष साहा ने कहा, "भाजपा से आमंत्रण मिलने के बाद हमारे साथ पांच विधायक गुवाहाटी में गुरुवार को कोविंद से मुलाकात करेंगे। एक विधायक दिलीप सरकार ने दिल्ली से फोन पर कहा है कि वह बैठक में पहुंचने की कोशिश करेंगे।"

सरकार इलाज के लिए दिल्ली में हैं।

एक अन्य विधायक सुदीप राय बर्मन ने कहा कि ये विधायक इस महीने एक अन्य बैठक में अपने भावी कदम पर निर्णय लेंगे।

मीडिया रपटों के अनुसार, तृणमूल के इन सभी विधायकों व पार्टी के अन्य नेताओं व कार्यकर्ताओं के जुलाई में भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की संभावना है। छठा विधायक पहले ही भाजपा में शामिल हो चुका है।

तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने सोमवार को कोलकाता में कहा था कि त्रिपुरा के पांच विधायकों से पार्टी का कोई संबंध नहीं है, जिन्होंने यहां तृणमूल मुख्यालय बुधवार को एक बैठक की।

तृणमूल के विधायक दल के नेता के रूप में इस्तीफा दे चुके विधायक दीबा चंद्र हरंगखवल ने कहा, "हमने इसके पहले कांग्रेस से इस्तीफा दिया था, क्योंकि उसने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में माकपा से चुनावी गठजोड़ किया। अब ममता बनर्जी वाम समर्थित राष्ट्रपति उम्मीदवार (मीरा कुमार) को समर्थन दे रही हैं।"

उन्होंने कहा कि वे मीरा कुमार का समर्थन नहीं करेंगे, क्योंकि उनका समर्थन माकपा कर रही है। "हमने अभी तय नहीं किया है कि हम भाजपा में शामिल होंगे या नहीं।"

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के छह विधायकों ने पिछले वर्ष सुदीप रॉय बर्मन के नेतृत्व में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और वे तृणमूल में शामिल हो गए थे। उसके बाद इन विधायकों को त्रिपुरा विधानसभा अध्यक्ष रामेंद्र चंद्र देबनाथ ने तृणमूल विधायकों के रूप में मान्यता दे दी थी।

इस बीच, तृणमूल कांग्रेस ने त्रिपुरा में सांगठनिक मामलों को देखने के लिए पश्चिम बंगाल में पार्टी विधायक सब्यसाची दत्ता को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है, जो जिम्मेदारी अभी तक पार्टी उपाध्यक्ष मुकुल रॉय निभा रहे थे।

POPULAR ON IBN7.IN