त्रिपुरा में कर्मचारियों के लिए उच्च वेतनमान घोषित

त्रिपुरा सरकार ने मंगलवार को अपने 2.45 लाख कर्मचारियों और पेंशनधारियों के लिए उच्च वेतनमान और भत्तों की घोषणा की है। राज्य में फरवरी 2018 में चुनाव होने वाले हैं।

कैबिनेट की बैठक के बाद वित्तमंत्री भानुलाल साहा ने कहा, "गंभीर वित्तीय संकट के बावजूद सरकार ने अपने कर्मचारियों के लिए केंद्र सरकार द्वारा अपने कर्मचारियों के वेतन में 14.2 प्रतिशत की वृद्धि के मुकाबले 19.68 प्रतिशत की वृद्धि करने का फैसला किया है।"

उन्होंने कहा, "इस वृद्धि से एक अप्रैल से प्रभावी वेतनमान और भत्ते के तहत सालाना 1,282 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च होंगे। हमें कर्मचारियों को वेतन, भत्ते और पेंशन प्रदान करने के लिए कुल बजट का 42 प्रतिशत अलग करना होगा।"

प्रधान सचिव (वित्त) एम. नागराजु के साथ मंत्री ने यह घोषणा करते हुए कहा कि इस वृद्धि के बाद प्रारंभिक वेतनमान मौजूदा न्यूनतम 6,240 रुपये के बजाए 14,40 रुपये हो जाएगा।

इसके अलावा हाउस रेंट सहित 24 अन्य प्रकार के भत्तों में वृद्धि होगी।

सत्तारूढ़, विपक्षी पार्टी -संबद्ध निकायों के कर्मचारियों और राजनीतिक पार्टियों की मांगों के जवाब में सरकार ने अप्रैल में अपने कर्मचारियों और पेंशनधारियों के लिए वेतन और पेंशन में वृद्धि की सिफारिश के लिए एक समिति गठित की थी।

वित्त मंत्री ने कहा, "पूर्व मुख्य सचिव जी.के. राव की अध्यक्षता वाली समिति ने 56 दिनों के भीतर अपनी रपट पेश की। मुख्यमंत्री माणिक सरकार की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद ने आज (मंगलवार) सिफारिशों को स्वीकार कर लिया।"

साहा ने कहा कि सरकार ने तीन नए भत्ते पेश करने का फैसला किया और 24 मौजूदा भत्तों को बरकरार रखा है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने दूसरे और चौथे शनिवार को सरकारी कार्यालयों में छुट्टी करने का भी फैसला किया है।