मणिपुर में नाकाबंदी जारी, त्रिपुरा व मिजोरम को ईंधन आपूर्ति बाधित

 

अगरतला/आइजोल:  मणिपुर में राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच-2) पर नाकाबंदी से जरूरी समान- खाद्यान्न और ईंधन की आपूर्ति बाधित हो गई है। मणिपुर में ईंधन की आपूर्ति बनाए रखे जाने के बीच दो अन्य राज्यों- त्रिपुरा और मिजोरम में पेट्रोल, डीजल व रसोई गैस की आपूर्ति की कमी होती दिखाई दे रही है। एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। इंडियन ऑयल कारपोरेशन (आईओसी) के अधिकारियों ने अगरतला में कहा कि यह संकट एक हफ्ते के भीतर खत्म हो जाएगा। आईओसी पूर्वोत्तर में ईंधनों की आपूर्ति असम की अपनी रिफाइनरी से करता है।

एक वरिष्ठ आईओसी अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईएएनएस से कहा, "पट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के निर्देश पर मणिपुर में ईंधन की आपूर्ति को प्राथमिकता दी जा रही है। इससे कुछ दूसरे पूर्वोत्तर के राज्यों में संकट पैदा हो रहा है।"

उन्होंने कहा कि आईओसी के स्वामित्व वाली चार रिफाइनरी डिगबोई, गुवाहाटी, नुमालीगढ़ और बोंगईगांव असम में हैं। यहां से डीजल, पेट्रोल और एलपीजी (तरलीकृत पेट्रोलियम गैस) की आपूर्ति ज्यादातर पूर्वोत्तर के इलाके में सड़क मार्ग से की जाती है।

मणिपुर की युनाइटेड नगा काउंसिल (यूएनसी) ने एक नवंबर से सड़क नाकाबंदी लागू कर रखी है। ऐसा राज्य सरकार के पारंपरिक नगा क्षेत्र के बाहर नई जिले बनाने के एकतरफा फैसले के विरोध में किया गया है।

कांग्रेस की अगुवाई वाली मणिपुर सरकार ने सात नए जिले बनाने का फैसला किया। इसमें मणिपुर ईस्ट से अलग जिरिबाम जिला और सेनापति जिले से अगल करके सदर हिल्स जिले भी शामिल है। इसका नागा अधिकार समूहों ने भारी विरोध किया।

  • Agency: IANS