राजस्थान के शिक्षा मंत्री ने अकबर को बताया ‘आतंककारी’

राजस्थान में बच्चों को अब अकबर को ‘महान’ नहीं पढ़ाया जाता है। राज्य सरकार ने अकबर के नाम के आगे से ‘महान’ शब्द हटा दिया है। लेकिन अब राजस्थान के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने मुगल सम्राट अकबर की तुलना ‘आतंकियों’ से की है। इससे पहले देवनानी ने अकबर क़िले का नाम अजमेर किला कर दिया था, और इस वजह से उन्हें धमकी मिली थी। शुक्रवार को इसी धमकी पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि, ‘जो अजमेर में अकबर का किला है, उसे मैने अजमेर का किला कहने को कहा था, क्योंकि मैं एक राष्ट्रवादी हूं और उस आधार पर जहां-जहा भी आतंक कारियों के नाम हैं, उसमें जो भी नियमानुसार संशोधन किया जा सकता है वो किये जाने चाहिए।’ राजस्थान के शिक्षा मंत्री ने कहा कि, इस मुद्दे के अलावा अजमेर में कई मुद्दे उठे, जिन पर मैं राष्ट्रीय दृष्टिकोण रखता हूं, मुझे लगता है कि इसी वजह से मुझे धमकी भरे पत्र आते रहते हैं।’

जब बाद में शिक्षा मंत्री इस बावत पूछा गया तो उन्होंने कहा कि, ‘मैने आक्रांता शब्द का इस्तेमाल किया था आतंकवादी का नहीं।’ वासुदेव देवनानी के मुताबिक, ‘मैंने आक्रांता कहा था, और हां अकबर ने भारत पर आक्रमण किया था, इसी वजह से हमने स्कूल से उन सारे चैप्टर को हटा दिया है जिसमें अकबर को महान कहा गया था।’ वासुदेव देवनानी के मुताबिक उनके इस फैसले के बाद भी पिछले साल 23 जुलाई को उनपर हमला हुआ था और अब ये धमकी भरा पत्र आया है, हो सकता है दोनों घटनाओं के बीच कोई संबंध हो।’ उन्होंने पुलिस से बारे में जांच की मांग की है।

देवनानी ने एक बार फिर दुहराया कि महाराणा प्रताप ने हल्दीघाटी की लड़ाई जीती है। वामपंथियों पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि, ‘ लेफ़्ट ने भारत के इतिहास के साथ तोड़ मरोड़ की है, अगर अकबर ने सचमुच में महाराणा प्रताप के खि़लाप जंग जीती थी तो उसने फिर से महाराणा के ख़िलाफ़ 6 बार लड़़ाइयां क्यों छेड़ी।’ इतिहासकारों पर अपनी भड़ास निकालते हुए उन्होंने कहा कि, ‘इतिहास अकबर को महान कहता आ रहा है, लेकिन अब तक के रिसर्च साबित करते हैं कि महाराणा प्रताप महान थे।’

POPULAR ON IBN7.IN