पंजाब में सिख प्रदर्शनकारियों, पुलिस के बीच झड़प, कई घायल

 Farmers protesting against low prices of Basmati rice call off their week-long rail blockade in Muchhal village near Amritsar on Oct 13, 2015. (Photo: IANS) Farmers protesting against low prices of Basmati rice call off their week-long rail blockade in Muchhal village near Amritsar on Oct 13, 2015. (Photo: IANS)

चंडीगढ़: पंजाब के फरीदकोट जिले में बुधवार को पवित्र किताब के कथित अपमान से नाराज सिख प्रदर्शनकारियों की पुलिस के साथ झड़प हुई, जिसमें कई लोगों को चोटें आई हैं। सूत्रों ने कहा कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज और पानी की तेज बौछारें की। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए हवा में गोलियां भी चलाई गईं।

झड़प बुधवार को चंडीगढ़ से करीब 230 किलोमीटर दूर कोटकपूरा कस्बे के मुख्य चौराहे पर उस वक्त हुई, जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के नेताओं को गिरफ्तार करने की कोशिश की।

प्रदर्शनकारी मोगा और बठिंडा शहर की ओर जाने वाले राजमार्गो को अवरुद्ध करने का प्रयास कर रहे थे।

घायलों में प्रदर्शनकारी और पुलिसकर्मी शामिल हैं।

प्रदर्शनकारी कोटकपूरा से 15 किलोमीटर दूर बरगरी गांव में हुए गुरु ग्रंथ साहिब की एक 'बीर' (पवित्र किताब) के कथित अपमान के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करने के लिए सोमवार से कोटकापुरा शहर में डेरा डाले हुए थे।

कोटकपूरा इलाके में सोमवार को गुरुद्वारे के करीब सिखों की पवित्र किताब के 100 से अधिक पन्ने बिखरे पड़े मिलने से तनाव बढ़ गया।

यह किताब जून में एक गुरुद्वारे से चोरी हुई थी।

पुलिस ने मंगलवार को कोटकपूरा में करीब 200 प्रदर्शनकारियों की घेराबंदी की, लेकिन बाद में उन्हें रिहा कर दिया।

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने लोगों से शांति बनाए रखने का अनुरोध किया है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN