परिजनों को मिलीं सरबजीत की निजी चीजें, डायरी नहीं

अटारी (पंजाब): पाकिस्तान के लाहौर स्थित कोट लखपत जेल में मारे गए भारतीय कैदी सरबजीत सिंह की निजी वस्तुएं गुरुवार को उसके परिवार के लोगों को अटारी-वाघा सीमा चौकी पर सौंप दी गई। सरबजीत की इसी वर्ष जेल में हत्या कर दी गई थी। परिवार ने कहा कि कुछ चीजें, खासकर पाकिस्तान की जेल में कैद के दौरान सरबजीत की लिखी डायरी उन्हें नहीं दी गई।

सरबजीत की निजी वस्तुएं तीन बक्सों में भारतीय उच्चायोग के कर्मचारी अमृतसर से 30 किलोमीटर दूर स्थित सीमा चौकी तक लेकर आए थे।

सरबजीत की बहन दलबीर कौर, पत्नी सुखप्रीत और बेटियां स्वप्नदीप और पूनम के अलावा अन्य रिश्तेदार और भिखीविंड गांव के लोगों ने सामान लिया। सरबजीत की चीजें देखकर परिवार के लोग रो पड़े।

रुं धे गले से सरबजीत की बहन दलबीर ने कहा, "मैं तो सीमा चौकी पर सरबजीत का स्वागत करने के लिए नजर जमाए बैठी रही। लेकिन ऐसा कुछ होने से पहले ही उसे मार डाला गया। पाकिस्तान के अधिकारियों ने हमें धोखा दिया।"

उन्होंने कहा, "मैं भारत सरकार से अपील करती हूं कि वे सरबजीत की डायरी लौटाने का प्रयास करे।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN