अय्याशी से लेकर हर साजिश के लिए राम रहीम के पास था एक 'कोडवर्ड!'

जेल जाने के बाद से ही राम रहीम से जुड़े कई खुलासे सामने आ रहे हैं. अब एबीपी न्यूज को जानकारी मिली है कि राम रहीम ‘कोडवर्ड’ का मास्टर था. अपने हर एक खतरनाक काम को अंजाम देने के लिए राम रहीम ने एक खास कोडवर्ड बना रखा था.

कोडवर्ड- ‘हर गलती से माफी देता हूं’

राम रहीम लड़कियों के यौनशोषण के वक्त एक कोडवर्ड इस्तेमाल करता था और वह कोडवर्ड है ‘हर गलती से माफी देता हूं!’. सीबीआई के दस्तावेजों की मदद से इस कोडवर्ड का खुलासा हुआ है. पीड़ित साध्वी के मुताबिक गलती से माफी राम रहीम का खास कोडवर्ड था और इसका इस्तेमाल डेरे में रहनेवाली वो तमाम साध्वियां करती थीं जो राम रहीम की शिकार बन चुकी होती थीं. पीड़ित साध्वी के मुताबिक पहली बार एक साध्वी ने उसके सामने इस कोडवर्ड का इस्तेमाल किया था.

सीबीआई को दिए अपने बयान में साध्वी ने कहा है कि वो पहली बार गलती माफी कोडवर्ड का मतलब नहीं समझ पाई थी. बाद में जब राम रहीम ने गलती माफ करने देने की बात कहते हुए उसका यौन शोषण किया तब उसे इस कोडवर्ड का सही मतलब समझ में आया. जिस तरह से यौन शोषण के लिए राम रहीम ने कोडवर्ड बना रखा था, उसी तरह उसके खास आदमियों ने भी राम रहीम के अंधभक्तों के लिए एक कोडवर्ड बनाया था. इस कोडवर्ड का नाम है ‘स्प्रे कर दो.’

कोडवर्ड- ‘स्प्रे कर दो’

राम रहीम के गुंडों के ‘स्प्रे कर दो’ कोडवर्ड का खुलासा उस दिन हुआ जिस दिन उसके गुंडे पूरे हरियाणा में आग लगाने की कोशिश कर रहे थे. उस समय पुलिस राम रहीम के खास लोगों का फोन टैप कर रही थी और उसी से पता चला कि राम रहीम के खास गुंडे बार-बार राम रहीम के अंधभक्तों को कह रहे हैं…स्प्रे कर दो…स्प्रे कर दो.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक ‘स्प्रे कर दो’ कोडवर्ड का तब ईजाद हुआ जब ये तय हो गया कि रेप केस में राम रहीम को सजा मिलनी तय है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक तब राम रहीम के गुंडे पूरे राज्य में हिंसा कराकर राम रहीम को भगाने की फिराक में थे और उसी दौरान उन्होंने ‘स्प्रे कर दो’ के साथ साथ एक और कोडवर्ड बनाया था. इस कोडवर्ड का नाम था ‘टमाटर तोड़ दो’.

कोडवर्ड- ‘टमाटर तोड़ दो’ और ‘सब्जी तैयार है’

पंजाब पुलिस के मुताबिक राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद पंजाब में जो हिंसा हुई वो पहले से तैयार की गई साजिश का हिस्सा थी. पंजाब पुलिस के सूत्रों के मुताबिक बाबा के दोषी करार दिए जाने के बाद बठिंडा में हिंसा शुरू करने के लिए ‘टमाटर तोड़ दो’ कोडवर्ड का इस्तेमाल किया गया था. इसी तरह संगरूर में हिंसा फैलाने के लिए ‘सब्जी तैयार है’ कोडवर्ड का इस्तेमाल हुआ था.

POPULAR ON IBN7.IN