राम रहीम को सजा का ऐलान कल, हरियाणा-पंजाब में बल्‍क SMS और डेटा सेवाओं पर रोक

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को बलात्कार मामले में सजा सुनाने के लिए सीबीआई के विशेष न्यायाधीश को हवाई मार्ग से यहां लाया जाएगा और रोहतक जिला जेल के चारों ओर बहुस्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया गया है। सजा के एलान से पहले पुलिस कोई कसर नहीं छोड़ रही है, साथ ही डेरा के अहम पदाधिकारियों को एहतियातन हिरासत में ले लिया है। इन लोगों पर अनुयायियों को इकट्ठा कर लेने की आशंका है। पुलिस ने बताया कि सुनारिया जेल रोहतक शहर के बाहरी क्षेत्र में स्थित है और कारागार परिसर की ओर जाने वाले मार्ग में कई सुरक्षा अवरोधक लगाए गए हैं। पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने हरियाणा सरकार को बलात्कार मामले में डेरा प्रमुख को सोमवार को सजा सुनाने के लिए विशेष सीबीआई न्यायाधीश के लिए जरुरी इंतजाम करने का आदेश दिया थे। इस मामले में दोषी राम रहीम इसी जेल में है।

पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान कड़ी निगरानी रख रहे हैं और पूरे रोहतक में कई नाका बनाए गए हैं। डेरा प्रमुख को सजा सुनाए जाने के मद्देनजर सुरक्षा स्थिति का जायजा ले रहे रोहतक रेंज के महानिरीक्षक नवदीप विर्क ने आज कहा, ‘‘डेरा केन्द्रों पर पूरी तरह कार्रवाई की गई है और राज्य भर में सभी प्रमुख पदाधिकारियों को, जो समर्थकों को इकट्ठा कर सकते थे, एहतियाती हिरासत में ले लिया गया है। ’’ विर्क ने कहा कि सजा सुनाए जाने के बाद किसी तरह की अप्रिय घटना से बचने के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

रोहतक के उपायुक्त अतुल कुमार ने कहा कि जिले में हालत पूरी तरह नियंत्रण में है और पुलिस तथा अर्धसैनिक बलों के जवान किसी भी स्थिति से निबटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने कहा कि रोहतक आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की तलाशी ली जा रही है। उनकी ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि जांच के दौरान जो भी व्यक्ति पहचान पत्र नहीं दिखा पाता है अथवा आने का सही कारण नहीं बता पाता है तो उसे हिरासत में ले लिया जाएगा। रोहतक जिले की सीमा पर नाका बनाए गएं हैं और ड्यूटी मजिस्ट्रेट को भी तैनात किया गया है। रोहतक में पहले से ही धारा 144 लागू है।

सीबीआई न्यायाधीश जगदीप सिंह ने बलात्कार के 15 साल पुराने मामले में गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिया था। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को दोषी ठहराये जाने के बाद हरियाणा और पंजाब में स्थिति तनावपूर्ण हो गई है। शुक्रवार को डेरा समर्थकों पंचकूला में जबरदस्त हिंसा की थी जिसमें 36 लोग मारे गए हैं। ऐसे में अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवायें यहां मंगलवार तक बंद रहेंगी।

मोबाइल इंटरनेट और डाटा सेवायें बंद करने के लिए पहले ही अधिसूचना जारी कर दी गई थी। अधिकारियों ने रविवार को बताया कि शुक्रवार को अदालत का फैसला आने के बाद 72 घंटे से बंद मोबाइल इंटरनेट सेवाएं मंगलवार तक बंद ही रहेंगी। इसी तरह पंजाब में भी यह सेवायें तीन दिन पहले से बंद है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कल कहा था कि यहां भी मोबाइल इंटरनेट सेवायें मंगलवार तक बंद रहेंगी।

POPULAR ON IBN7.IN