हरियाणा सरकार ने खराब परिणामों पर स्कूलों को चेतावनी दी

चंडीगढ़:  हरियाणा सरकार ने अपने उन स्कूलों और उसके शिक्षकों को चेतावनी दी है जहां सीखने के न्यूनतम स्तर के आकलन के लिए हाल में गई परीक्षाओं में विद्यार्थियों का प्रदर्शन अच्छा नहीं था। स्कूली शिक्षा के अतिरिक्त मुख्य सचिव पी.के.दास ने बुधवार को कहा कि गत साल दिसंबर महीने में 200 स्कूलों का निरीक्षण किया गया था और करीब 25,000 छात्रों के साथ सीधा संवाद किया गया था।

दास ने कहा, "प्रदर्शन के मानक स्तर नहीं हासिल करने वाले स्कूलों को चेतावनी दी गई है। तीन महीने बाद इन स्कूलों का दोबारा निरीक्षण किया जाएगा।"

उन्होंने कहा कि निरीक्षण अधिकारियों की भूमिका बढ़ाने के लिए कर्मचारियों और स्कूलों की प्रबंधन समितियों के सदस्यों के बीच बैठक भी हुई है।

दास के अनुसार, हरियाणा के शिक्षा विभाग ने निर्णय किया है कि छात्रों के सीखने के न्यूनतम स्तर को बढ़ाने और मूल्यांकन करने के लिए हर पंद्रह दिनों पर राज्य के करीब 250 स्कूलों का निरीक्षण किया जाएगा।

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि निरीक्षण के आधार पर यह कहा जा सकता है कि सीखने के न्यूनतम स्तर के मामले में राज्य में स्थिति निराशाजनक नहीं है।

उन्होंने यह भी कहा, "यह सोच गलत है कि सरकारी स्कूलों के छात्र कुछ नहीं जानते हैं।"

दास ने कहा कि कुल मिलाकर जिलेवार प्रदर्शन के मामले में महेंद्रगढ़, रेवाड़ी और गुरुग्राम शीर्ष तीन जिलों में आए जबकि पंचकुला, मेवात और पलवल नीचे के तीन जिलों में शामिल रहे।

उन्होंने कहा कि प्रत्येक शिक्षक के पढ़ाने की क्षमता, छात्रों के सीखने का स्तर, पढ़ाए गए विषयों के आधार पर सीखने का स्तर और छात्र की कक्षा के आधार पर शिक्षकों का भी मूल्यांकन किया गया है।

POPULAR ON IBN7.IN