एसयूएम अस्पताल में सुरक्षा नियमों का उल्लंघन, मालिक के खिलाफ कार्रवाई संभव

भुवनेश्वर: ओडिशा में सोमवार को भीषण अग्निकांड का शिकार हुए एसयूएम अस्पताल के मालिक को लापरवाही व अग्नि सुरक्षा नियमों के घोर उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार किया जा सकता है। हृदय विदारक हादसे में 20 लोगों की मौत हो गई थी। चिकित्सा शिक्षा व प्रशिक्षण (डीएमईटी) के निदेशक प्रकाश चंद्र महापात्रा ने संकेत देते हुए कहा कि इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड एसयूएम हॉस्पिटल के मालिक को गिरफ्तार किया जा सकता है।

महापात्रा ने कहा, "पुलिस अस्पताल के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। हमने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। मालिक भी प्रबंधन के तहत ही आता है। पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है।"

डीएमईटी के निदेशक के मुताबिक, राज्य में चल रहे 568 निजी अस्पतालों व नर्सिग होम में से केवल तीन कॉरपोरेट अस्पतालों (भुवनेशवर, कटक व पुरी में) को अग्नि सुरक्षा प्रमाण पत्र मिले हैं।

इस सूची में एसयूएम हॉस्पिटल का नाम नहीं है। उसके पास अग्नि सुरक्षा प्रमाण पत्र नहीं है।

एक वरिष्ठ अग्निशमन अधिकारी ने बताया अस्पताल ने साल 2013 में अग्नि सुरक्षा के उपायों का ऑडिट नहीं कराया था। उसके पास कोई मान्य अग्नि सुरक्षा प्रमाण पत्र भी नहीं है।

एसयूएम हॉस्पिटल के पास न तो 25 हजार लीटर की पानी की टंकी है और न ही आग बुझाने का कार्यशील यंत्र है। 

अग्निशमन विभाग द्वारा दर्ज प्राथमिकी के मुताबिक, "फायर डिटेक्शन सिस्टम ठीक से काम नहीं कर रहा, क्योंकि उसे ठीक से जोड़ा नहीं गया। इसलिए आपात हालात में लोगों को सतर्क करने के लिए अलार्म नहीं लगा था।"

प्राथमिकी के मुताबिक, आग लगने की स्थिति में बाहर निकलने के लिए आपात निकास की कोई व्यवस्था नहीं थी, जिसके कारण लोगों को बाहर निकलने में परेशानी हुई। मरीजों को खिड़की के शीशे तोड़कर बाहर निकाला गया।

आग लगने के दौरान इमारत में मौजूद अग्नि संरक्षण प्रणाली ने काम नहीं किया और यहां तक कि परिसर में जल स्रोत भी उपलब्ध नहीं था।

इस त्रासदी के सिलसिले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

चिकित्सा अधीक्षक पुष्पराज सामंतसिंघार, पूर्व कार्यपालक अभियंता अमूल्य कुमार साहू (इलेक्ट्रीक मेंटेनेंस), अग्नि सुरक्षा अधिकारी संतोष दास तथा सेवानिवृत्त कनिष्ठ अभियंता मलय कुमार साहू (इलेक्ट्रीकल मेंटेनेंस) को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया।

--आईएएनएस

  • Agency: IANS