ओडिशा के पूर्व मंत्री मोहंती को अदलत से राहत नहीं

ओडिशा उच्च न्यायालय ने राज्य के पूर्व कानून मंत्री रघुनाथ मोहंती की दहेज प्रताड़ना संबंधी प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) खारिज करने की याचिका ठुकरा दी। मोहंती की पुत्रवधू ने पूर्व मंत्री सहित परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मुकदमा दर्ज कराया है।

भुवनेश्वर से 26 किलोमीटर दूर कटक में उच्च न्यायालय की एकल पीठ के जज न्यायमूर्ति रघुवीर दास ने मोहंती की याचिका पर मंगलवार को सुनवाई पूरी कर ली थी लेकिन अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

बचाव पक्ष के एक वकील ने आईएएनएस को बताया कि बुधवार को न्यायाधीश ने फैसला सुनाया।

मोहांती ने न्यायालय से संभावित पुलिस कार्रवाई से अंतरिम संरक्षण की भी अपील की थी, लेकिन न्यायालय ने उनका यह अनुरोध भी नहीं माना।

पुत्रवधू वर्षा सोनी चौधरी द्वारा दहेज के लिए प्रताड़ित किए जाने की पुलिस में शिकायत दर्ज कराए जाने के एक दिन बाद 15 मार्च को मोहंती ने राज्य मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया और उसके बाद से वे 'अज्ञातवास' में चले गए हैं।

मोहंती बालासोर जिले के बास्टा निर्वाचन क्षेत्र से पांच बार विधायक रह चुके हैं और मौजूदा सरकार में वे कानून मंत्रालय के अलावा शहरी विकास और सूचना प्रौद्योगिकी महकमे का भी कामकाज देख रहे थे।

वर्षा सोनी चौधरी की मोहांती के बेटे राजाश्री के साथ पिछले वर्ष जून में शादी हुई थी। वर्षा ने पूर्व मंत्री और उनके परिवार पर शादी के बाद से दहेज के लिए शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना देने का आरोप लगाया है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN