चक्रवातीय तूफान वरदाह का ओडिशा पर कम पड़ेगा प्रभाव

 

भुवनेश्वर:  पश्चिम बंगाल से उठे चक्रवातीय तूफान का ओडिशा पर सबसे कम प्रभाव पड़ सकता है। तूफान के आंध्र प्रदेश के तटीये इलाकों की ओर बढ़ने की संभावना है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने गुरुवार को यह जानकारी दी। आईएमडी की विज्ञप्ति में कहा गया कि शुक्रवार सुबह तक यह तूफान भीषण रूप ले सकता है।

भुवनेश्वर के मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक, सरत चंद्र साहू ने कहा, "इस चक्रवातीय तूफान से ओडिशा पर सबसे कम असर पड़ेगा। यह आंध्र प्रदेश के दक्षिणी तट को पार करेगा। इस तूफान के प्रभाव से 11 दिसंबर के बाद ओडिशा के दक्षिणी हिस्सों में बारिश होगी।"

उन्होंने कहा कि पारादीप और गोपालपुर बंदरगाहों पर तूफान से चेतावनी का संकेत नंबर दो (डी डब्ल्यू-2) फहराया गया है।

आईएमडी की विज्ञप्ति में कहा गया है, "चक्रवातीय तूफान वरदाह बंगाल की खाड़ी के दक्षिणी पूर्व के ऊपर से पिछले छह घंटों में नौ किलोमीटर की रफ्तार से उत्तर की ओर आगे बढ़ा है।"

इसका केंद्र गोपालपुर से 1050 किलोमीटर दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी में है।

विज्ञप्ति में कहा गया, "अगले 24 घंटों के दौरान भीषण चक्रवातीय तूफान आने की आशंका है। 12 दिसंबर की दोपहर तक यह आंध्र प्रदेश के नेल्लोर और काकीनाड़ा को पार करेगा।"