राम सिंह की 'आत्महत्या निगरानी' हटा ली गई थी

नई दिल्ली, 11 मार्च (आईएएनएस)| तिहाड़ जेल में कथित तौर पर आत्महत्या करने वाले दिल्ली सामूहिक दुष्कर्म मामले के मुख्य आरोपी राम सिह की 'आत्महत्या निगरानी' कुछ सप्ताह पहले ही हटा ली गई थी। अधिकारियों ने यह बात सोमवार को बताई। तिहाड़ के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि 35 वर्षीय राम सिंह समेत अन्य चार आरोपियों ने जब आपस में तथा अन्य कैदियों से बातचीत बंद कर दी थी, तब उन सभी पर आत्महत्या निगरानी शुरू कर दी गई थी।

अधिकारी ने कहा, "जब हमें लगा कि वे सामान्य व्यवहार करने लगे हैं तथा तनाव में किसी तरह की गलत हरकत नहीं कर रहे हैं तब उन पर से निगरानी हटा ली गई। वे अपना भोजन ठीक से कर रहे थे तथा एकदम सामान्य लग रहे थे।"

अधिकारी ने निगरानी हटाए जाने की तारीख बताने से इंकार कर दिया लेकिन कहा कि निगरानी कुछ ही सप्ताह पहले हटाई गई।

राम सिंह तिहाड़ की जेल संख्या तीन के अपने कमरा संख्या पांच के रोशनदान में लगी ग्रिल से रस्सी के सहारे सोमवार की सुबह 5.45 बजे लटका पाया गया।

राम सिंह के कमरे में तीन और कैदी भी बंद थे। जेल अधिकारियों ने अन्य तीनों कैदियों की पहचान बताने से इंकार कर दिया।

अधिकारी ने बताया कि राम सिह रात के ढाई बजे तक साथी कैदियों से बात करता रहा। अन्य तीनों कैदियों ने पूछताछ में बताया कि उन में से किसी ने भी उसे फांसी लगाते हुए नहीं देखा, वे उस वक्त संभवत: सो रहे थे।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN