दिल्ली दुष्कर्म मामाला : राम सिंह की खुदकुशी से पीड़िता का भाई हैरान

नई दिल्ली, 11 मार्च (आईएएनएस)| राष्ट्रीय राजधानी में 16 दिसंबर, 2012 की रात चलती बस में 23 साल की युवती के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म के मुख्य आरोपी राम सिंह द्वारा तिहाड़ जेल में खुदकुशी किए जाने से पीड़िता का भाई हैरान है। पीड़िता के 20 वर्षीय भाई ने आईएएनएस से फोन पर कहा कि उच्च सुरक्षा वाली जेल में खुदकुशी की घटना से वह हैरान है। हालांकि उसने यह भी कहा कि राम सिंह को मौत की सजा दी जानी चाहिए।

पीड़िता के भाई ने कहा, "राम सिंह को फांसी पर लटकाया जाना चाहिए था। उसे सार्वजनिक तौर पर फांसी दी जानी चाहिए थी।"

उसने हालांकि तिहाड़ प्रशासन पर कोई आरोप नहीं लगाए हैं। उसने कहा, "यदि कोई खुदकुशी करना चाहता है तो वह किसी भी तरीके से ऐसा करेगा। हम किसी को इसके लिए दोषी नहीं ठहरा सकते।"

पीड़िता के भाई ने कहा, "राम सिंह को मालूम था कि उसके खिलाफ मजबूत साक्ष्य हैं और उसे मौत की सजा मिल सकती है। मामले की सुनवाई प्रतिदिन हो रही है और अप्रैल तक अदालत का फैसला भी आ जाएगा।"

उसने कहा, "मुझे लगता है कि वह घटना को लेकर खुद को दोषी समझ रहा था, क्योंकि उसने एक निर्दोष के साथ बर्बर कृत्य किया था।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN