दिल्ली में सीलिंग पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, कोर्ट ने कहा, दिल्ली का मास्टर प्लान लाएं

नई दिल्ली: दिल्ली में सीलिंग का मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर एक बार मान लिया जाए कि मॉनिटरिंग कमेटी को भंग कर दिया जाए तो क्या निगम ऐसे मामलों में कार्रवाई नहीं कर सकता. 


सुप्रीम कोर्ट ने डीडीए व अन्य पक्षकारों को दिल्ली का मास्टर प्लान लाने को कहा है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पांच फरवरी को सुनवाई होगी और अर्जियों का निपटारा कर देंगे. कोर्ट कहा कि फैसला होगा, या तो इधर या उधर.

दरअसल सुप्रीम कोर्ट छतरपुर रोड पर बनी मारबल दुकान वालों की याचिका पर सुनवाई कर रहा है. मारबल दुकान मालिकों का कहना है कि ये सड़क जोनल प्लान में कॉमर्शियल घोषित की गई है और इस पर होटल व अन्य शोरूम हैं. लेकिन इस जमीन को खेती की जमीन के आधार पर सील किया जा रहा है. 

सुप्रीम कोर्ट ने जोनल प्लान देखने के बाद कहा कि इसके लिए मास्टर प्लान भी देखना होगा. इस दौरान दुकानदारों की ओर से पेश मुकुल रोहतगी ने कहा कि जब पूरी सड़क को कॉमर्शियल किया गया है तो इस तरीके से मारबल दुकानों को सील नहीं किया जा सकता.