रेप पीड़िता ने फेसबुक पर शेयर की ‘अच्छे मूड’ की तस्वीर तो कोर्ट ने बलात्कार के आरोपी को दे दी जमानत

 

यहां एक अदालत ने बलात्कार के आरोपी को महज इस आधार पर जमानत दे क्योंकि बलात्कार की पीड़िता इन दिनों अपनी पति के साथ खुश है। दरअसल एक महिला ने कुछ दिन पहले बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज कराई। रिपोर्ट दर्ज कराने के कुछ दिन बाद महिला ने पति के साथ फेसबुक पर कुछ तस्वीरें साझा की जिसमें वो बहुत खुश नजर आ रही है। इन तस्वीरों के आधार पर अदालत ने बलात्कार पीड़िता का ‘अच्छा मूड’ मानते हुए और दूसरी दलीलों के आधार पर आरोपी को जमानत दे दी। एनबीटी की खबर के अनुसार इस दौरान आरोपी के वकील की तरफ से दलील दी गई कि आमतौर पर बलात्कार की शिकार महिलाएं में रेप ट्रॉमा सिन्ड्रोम (आरटीएस) के लक्ष्यण नजर आने लगते हैं। साथ ही बलात्कार की घटना के बाद पीड़िताओं में निराशा काफी हद तक बढ़ जाती है। लेकिन इस मामले में रेप पीड़िता में इस तरह का कोई लक्ष्ण नजर नहीं आता। आरोपी के वकील ने अपनी इसी दलील को पुख्ता करने के लिए महिला की चार से सात जून (2017) के बीच फेसबुक पर शेयर की गई तस्वीरों का हवाला दिया। इन तस्वीरों में रेप पीड़िता अपने पति के साथ काफी सहज और खुश नजर आ रही है। इस दौरान आरोपी के वकील बृजेश गुप्ता ने दावा किया महिला द्वारा लगाया रेप का आरोप झूठा है। क्योंकि महिला और उनके क्लायंट के बीच प्रोपर्टी को लेकर विवाद चल रहा है।

वकील के अनुसार इसी केस को वापस लेने के लिए महिला दबाव बना रही हैं। महिला ने मैक्स हॉस्पिटल के डॉक्टरों को भी रेप के बारे में कुछ नहीं बताया था। उन्होंने कोर्ट को बताया कि महिला ने उनके क्लायंट के खिलाफ मार्च के महीने में भी रेप का एक केस दर्ज कराया था, जिसमें वह जमानत पर है। ऐसे में महिला का बलात्कार का आरोप भरोसे लायक नहीं है। स्पेशल जज प्रवीण कुमार ने माना कि शिकायती महिला ने सोशल मीडिया पर जो फोटो अपलोड की हैं, उनमें रेप ट्रॉमा सिन्ड्रोम के लक्षण नहीं नजर आ रहे हैं। वह फोटो में पति के साथ अच्छे मूड में दिख रही हैं। कोर्ट ने इस बात को भी संज्ञान में लिया कि दोनों पक्षों के बीच प्रॉपर्टी विवाद चल रहा है और एफआईआर कराने में देरी हुई है। दूसरी तरफ कोर्ट ने आरोपी द्वारा जांच सहयोग करने के रिकॉर्ड को देखते हुए इसे जमानत का आधार माना। दूसरी तरफ अदालत ने यह साफ कर दिया कि जो कुछ भी इस ऑर्डर में कहा गया, उसका ट्रायल पर कोई असर नहीं पड़ेगा। जानकारी के लिए बता दें कि शिकायकर्ता महिला ने बताया कि 23 मई (2017) को सुबह छह बजे आरोपी उसे आनंद विहार से गाजियाबाद के होटल ब्लैक में ले गया। और जान से मारने की धमकी देकर उसके साथ बलात्कार किया।

POPULAR ON IBN7.IN