टैंकर घोटाला: ACB ने केजरीवाल के मुख्य सचिव से की पूछताछ

भ्रष्टाचार रोधी शाखा (एसीबी) ने 400 करोड़ रुपए के कथित टैंकर घोटाले में अपनी जांच के संबंध में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव से पूछताछ की। भ्रष्टाचार रोधी शाखा ने पिछले सप्ताह विभव कुमार को तलब किया था और बुधवार को वह जांच में शामिल हुए।  एसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक केजरीवाल के निजी सचिव सुबह पूछताछ के लिए एसीबी कार्यालय पहुंचे। दिल्ली सरकार से बर्खास्त किए मंत्री कपिल मिश्र ने एसीबी को शिकायत की थी कि अरविंद केजरीवाल और उनके दो सहयोगियों विभव कुमार और आशीष तलवार ने टैंकर घोटाले की जांच पर असर डाला है और घोटाले में मुख्य आरोपी पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को बचाने की कोशिश की गई। सूत्रों ने बताया कि कपिल मिश्र ने बताया कि हटाए गए मंत्री ने यह भी दावा किया कि कथित घोटाले के मामले में केजरीवाल के सहयोगी ने उनसे तत्कालीन राज्यपाल नजीब जंग को कुछ रिपोर्ट भेजने में देरी करने को कहा था। एसीबी ने कपिल का विस्तृत बयान पिछले सप्ताह रिकार्ड किया था।उसके आधार पर कुछ बिंदुओं पर कल उनसे पूछताछ की जाएगी। कपिल अब इस मामले में शिकायतकर्ता और गवाह बन गए हैं।

आप विधायक सोमदत्त के खिलाफ आरोप तय

मेट्रोपोलिटन मेजिस्ट्रेट रूबी नीरज कुमार ने आम आदमी पार्टी (आप) विधायक सोमदत्त के खिलाफ 2015 के विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान दंगा फैलाने, एक व्यक्ति को गलत ढंग से रोकने और उसके साथ मारपीट करने के आरोपों में मुकदमा शुरू कर दिया। मेजिस्ट्रेट रूबी नीरज कुमार ने सदर बाजार इलाके से विधायक सोमदत्त के खिलाफ आरोप तय कर दिए क्योंकि उन्होंने खुद को बेकसूर बताते हुए मुकदमे का सामना करने का फैसला किया था। अदालत ने अभियोजन पक्ष के साक्ष्य दर्ज करने के लिए मामले को 27 जुलाई के लिए सूचीबद्ध कर लिया और शिकायतकर्ता राजीव राणा को समन जारी किया। इन अपराधों के लिए दोषी पाए जाने पर अधिकतम सात साल की सजा हो सकती है। विधायक जमानत पर है। अदालत ने उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत दंगा करने, जानबूझकर गंभीर चोट पहुंचाने के आरोप तय किए हैं।

  • Agency: IANS