मुरैना में आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या

मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में सूचना के अधिकार के लिए काम करने वाले मुकेश दुबे की लाठी-डंडों से पीटकर हत्या कर दी गई। पुलिस दुबे को अपराधी बता रही है, वहीं सूचनाधिकार कार्यकर्ताओं ने मामले की केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग की है। पुलिस के अनुसार, सुमावली थाना के मटकौरा गांव में एक युवक का मंगलवार की सुबह शव मिला, उसकी पहचान जेब से निकले परिचयपत्र से हुई। मुकेश मुरैना का रहने वाला था, उसके शरीर पर चोट के निशान हैं। आशंका जताई जा रही है कि उसे मारकर जंगल में फेंका गया होगा।

राजधानी में एक सूचनाधिकार कार्यकर्ता अजय दुबे ने मुख्य सूचना आयुक्त के नाम ज्ञापन देकर सूचना के अधिकार के लिए काम करने वाले कार्यकर्ता की निर्मम हत्या की सीबीआई जांच की मांग की है।

वहीं ऐश्वर्य पांडे ने कहा है कि सूचना के अधिकार के जरिए जानकारी मांगना कठिन होता जा रहा है। मुरैना में दुबे ने पंचायतों के भ्रष्टाचार की कलई खोलने की कोशिश की तो उसे मौत के घाट उतार दिया गया।

बामौर के अनुविभागीय अधिकारी, पुलिस (एसडीओ,पी) आत्माराम शर्मा ने आईएएनएस को बताया कि मुकेश दुबे के खिलाफ कई प्रकरण दर्ज हैं, वह अपराधी किस्म का व्यक्ति था। पुलिस जांच कर रही है।