भोपाल में ग्लोबल स्किल डेवपलमेंट सेंटर की स्थापना होगी : शिवराज

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भोपाल में सिंगापुर के सहयोग से ग्लोबल स्किल डेवपलमेंट सेंटर की स्थापना की जाएगी। प्रदेश के दस संभागीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) को आदर्श संस्थान के रूप में विकसित किया जाएगा। आईटीआई एवं कौशल विकास के क्षेत्र में मध्यप्रदेश को देश में नम्बर वन बनाया जायेगा। राज्य में रोजगार की पढ़ाई - चलें आई़टी़आई़ अभियान की शुरुआत करते हुए गुरुवार को चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की जनसंख्या को कौशल सम्पन्न बनाकर इसे प्रदेश की ताकत बनाएंगे। वर्तमान में हर क्षेत्र में कौशल सम्पन्न मानव संसाधन की जरूरत है।

चौहान ने कहा, "औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों को आदर्श संस्थानों के रूप में विकसित करने के लिए बजट की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कौशल विकास को महायज्ञ बताते हुए कहा कि यह अभियान चार चरण में चलेगा। इसमें स्कूलों को आईटीआई से परिचित करवाया जाएगा और आईटीआई के शिक्षकों को स्कूलों में भी भेजा जाएगा ताकि स्कूली बच्चे कौशल विकास का महत्व समझ सकें।"

मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना और मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की चर्चा करते हुए चौहान ने कहा कि इनमें आईटीआई प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि आईटीआई पास आठवीं कक्षा तक पढ़े बच्चों को दसवीं कक्षा तक शैक्षणिक योग्यता की मान्यता दी जाएगी और दसवीं कक्षा पास बच्चों को बारहवीं तक की शैक्षणिक योग्यता की मान्यता दी जाएगी।

इस समारोह में केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राजीव प्रताप रुड़ी, राज्य के तकनीकी षिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी, पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर भी उपस्थित थे।