मिजोरम के पूर्व मुख्यमंत्री का निधन

आइजोल : मिजोरम के अनुभवी राजनेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री ब्रिगेडिर टी. सलो का निधन यहां एक निजी अस्पताल में हो गया। वह 93 साल के थे। उनके परिवार में पत्नी, दो बेटे और एक बेटी हैं।

अधिकारियों ने बताया, "ब्रिगेडियर सैलो को शुक्रवार दोपहर सीने में दर्द उठने के बाद आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया, जहां हृदय गति रुक जाने से उनकी मौत हो गई।"

जून 1978 एवं मई 1984 में दो बार मिजोरम के मुख्यमंत्री रह चुके सैलो 1942 में बिटिश इंडियन आर्मी में शामिल हुए थे। उन्हें 1966 में भारतीय सेना में ब्रिगेडियर के रूप में पदोन्नति दी गई थी।

ब्रिगेडियर सैलो के करीबी सहयोगी एन. सैलो ने कहा, "भारतीय सेना से 1974 में सेवानिवृत होने के बाद उन्होंने (ब्रिगेडियर सैलो) मानवाधिकार समिति का गठन किया, ताकि आतंकवाद के साये में जी रहे और कथित रूप से सेना की ज्यादतियां सह रहे मिजोरम के लोगों की मदद की जा सके।"

उन्होंने बताया, "सैलो ने 1975 में मिजोरम पीपुल्स कांफ्रेंस की स्थापना की, जिसने 1977 में मिजोरम संघ शासित प्रदेश चुनाव जीता और वह मिजोरम के मुख्यमंत्री बने।"

उन्होंने बताया कि ब्रिगेडियर सैलो मिजो समुदाय से आने वाले पहले भारतीय सैन्य अधिकारी थे। उन्हें 60 के दशक के दौरान ओडिशा और बिहार में बाढ़ पीड़ितों की मदद और सेवा के लिए सम्मानित भी किया गया था।

मिजोरम में सत्तारूढ़ कांग्रेस और विपक्षी पार्टी मिजोरम नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने सैलो के निधन पर शोक जताया।

कांग्रेस ने कहा, "हमने एक महान नेता को खो दिया। कांग्रेस राज्य के विकास के लिए उनके विचार और दृष्टिकोण को अपनाना जारी रखेगी। उनका निधन मिजो समुदाय के लोगों के लिए बहुत बड़ी क्षति है।"

एमएनएफ ने एक बयान में कहा, "सैलो ने बहुत से निर्दोष लोगों, महिलाओं और बच्चों को भारतीय सेना के अत्याचारों से मुक्ति दिलाई थी।"

POPULAR ON IBN7.IN