100 फीसदी साक्षरता दर के लिए मिजोरम ने कसी कमर

आइजोल: मिजोरम सरकार का कहना है कि वह राज्य में 100 फीसदी साक्षरता दर हासिल करना चाहती है और इसके लिए हर जरूरी कदम उठाए जाएंगे। राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री एच. रोहलुना ने राज्य विधानसभा में बताया, "2011 की जनगणना के अनुसार, मिजोरम में साक्षरता दर 91.33 फीसदी दर्ज की गई और इस लिहाज से यह देश का तीसरा सर्वाधित साक्षरता वाला राज्य है। इससे अधिक साक्षरता केरल (94 फीसदी) और लक्षद्वीप (91.85 फीसदी) है।"

उन्होंने कहा, "दूरदराज के क्षेत्रों में एनिमेटरों की नियुक्ति और गैर सरकारी संगठनों के साथ समन्वय और धार्मिक शिक्षकों को शामिल करके साक्षरता दर 100 फीसदी करने के प्रयास किए जाएंगे। ग्राम परिषदों को भी इन प्रयासों में सामिल किया जाएगा।"

उन्होंने कहा, "राज्य में सेरछिप जिले की साक्षरता दर 97.91 फीसदी के साथ सबसे अधिक है, जबकि 65.88 फीसदी के साथ लांगतलाई जिले की साक्षरता दर सबसे कम है।"

मंत्री ने बताया कि राज्य के आठ जिलों में से तीन जिलों लांगतलाई (65.88), मामित (84.93) और लुंगलेई (88.86) की साक्षरता दर अन्य जिलों की तुलना में कम है।

2011 की जनगणना के मुताबिक पूवरेत्तर के आठ राज्यों में से मिजोरम की साक्षरता दर सबसे अधिक है, वहीं पूरे देश की साक्षरता दर 74.04 फीसदी है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN