मिजोरम में 3 व्यापारियों, उनके वाहन चालक का अपहरण

अगरतला: त्रिपुरा के जनजातीय आतंकवादियों ने त्रिपुरा के तीन व्यापारियों और उनके वाहन चालक का मिजोरम से अपहरण कर लिया। यह जानकारी रविवार को पुलिस ने दी। त्रिपुरा पुलिस के एक प्रवक्ता ने संवाददाताओं को बताया, "पांच व्यापारी अपने व्यापार के सिलसिले में शनिवार को उत्तरी त्रिपुरा से पश्चिमी मिजोरम गए थे। सशस्त्र आतंकवादियों ने उनके वाहन को रोका और तीन व्यापारियों और उनके कार चालक का अपहरण कर लिया।"

नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (एनएलएफटी) के सदस्योंने जब त्रिपुरा-मिजोरम सीमा से 20 किलोमीटर दूर स्थित पश्चिमी मिजोरम के फेलेंग गांव में वाहन को रोका तो दो व्यापारी भागने में सफल रहे।

त्रिपुरा पुलिस ने मिजोरम पुलिस से कहा है कि वे बंधकों को सुरक्षित मुक्त कराएं। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) को भी सतर्क कर दिया गया है कि कहीं आतंकवादी भारत-बांग्लादेश सीमा पार करने की कोशिश न करें।

एनएलएफटी के आतंकवादियों ने अलग-अलग घटनाओं में पिछले साल मिजोरम के इसी इलाके से त्रिपुरा के तीन व्यवसाइयों, एक टेलीकॉम पेशेवर का अपहरण किया था। हालांकि अपहृत व्यक्तियों को कुछ महीनों बाद रिहा कर दिया था। आतंकवादियों ने उन्हें छोड़ने के लिए फिरौती मांगी थी।

त्रिपुरा से लगी भारत-बांग्लादेश सीमा पर बाड़ लग जाने और सुरक्षा कड़ी होने के बाद एनएलएफटी आतंकवादी सीमापार जाने के लिए मिजोरम का प्रयोग कर रहे हैं।

एनएलएफटी आतंकवादी बांग्लादेश में अपना ठिकाना बना रहे हैं और फिरौती के लिए त्रिपुरा और मिजोरम से लोगों का अपहरण कर रहे हैं।

मिजोरम की 404 किलोमीटर की सीमा म्यांमार से और 318 किलोमीटर सीमा बांग्लोदश से लगी है।

त्रिपुरा की भी 856 किलोमटर सीमा बांग्लादेश से लगी हुई है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN