टैक्सी परमिट चाहते हैं मुम्बई के डब्बावाले

मुम्बई, 3 अप्रैल (आईएएनएस)| मुम्बई के प्रसिद्ध डब्बावाले अपनी आय बढ़ाने के लिए टैक्सी चलाना चाहते हैं। यह जानकारी एक अधिकारी ने बुधवार को दी। नूतन मुम्बई टिफिन बॉक्स सप्लायर्स एसोसिएशन (एनएमटीबीएसए) के प्रवक्ता सुभाष तालेकर ने आईएएनएस से कहा, "राज्य सरकार मुम्बई और उपनगरीय इलाकों के लिए 14,000 टैक्सी परमिट को फिर से सक्रिय करने और इसे जारी करने की योजना बना रही है। हम विशेष रूप से इसमें 10-15 फीसदी जायज आरक्षण चाहते हैं।"

अपनी मांग को जायज ठहराते हुए उन्होंने कहा कि इस छोटे कोटे से मुम्बई के दो लाख से ज्यादा लोगों को उनके दफ्तर तक गर्म खाना पहुंचाने वाले 5,000 में से लगभग 2,000 डब्बावालों को मदद मिलेगी।

तालेकर ने कहा, "हम पिछले 120 सालों से बिना किसी प्रदर्शन और हड़ताल के मुम्बई के लोगों को समय पर सेवा उपलब्ध करा रहे हैं, इस कड़ी मेहनत के बाद एक डब्बावाला महीने में औसतन आठ से 10 हजार रुपये कमा पाता है, जो इस महंगाई में पर्याप्त नहीं है।"

उनके मुताबिक, एनएमटीबीएसए के सदस्यों का एक दल जल्द ही उपमुख्यमंत्री अजित पवार और गृहमंत्री आर.आर. पाटिल से मुलाकात कर इस मामले में औपचारिक अनुरोध करेगा।

एक आधिकारिक सूत्र का कहना है कि सरकार 14,000 टैक्सी की समाप्त हो चुकी परमिट फिर से मुम्बई के लिए आवंटित करेगी। इनमें से 1,000 परमिट महिला चालकों के लिए आरक्षित रखने का प्रस्ताव है। इसके अलावा 4,000 परमिट फ्लीट टैक्सी आपरेटर्स और अन्य कोटा प्रणाली के तहत आम लोगों को दिया जा सकता है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

POPULAR ON IBN7.IN