महाराष्ट्र ने 477 'फरार' चिकित्सकों को बर्खास्त किया

मुंबई: महाराष्ट्र सरकार ने कार्रवाई करते हुए 477 सरकारी चिकित्सकों को बर्खास्त करने का फैसला किया है। ये चिकित्सक सेवा में शामिल होने के बाद करीब 15 सालों से ड्यूटी से अनुपस्थित रहे हैं। राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री दीपक सावंत ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमने उनके खिलाफ कार्रवाई करने का फैसला किया है।

सरकार द्वारा राज्य भर में अपने अस्पतालों में नियुक्त किए गए बहुत से चिकित्सक सेवा में शामिल होने के बाद से गायब हैं और आमतौर पर इनका संदर्भ 'फरार' कह कर दिया जाता है।

सावंत ने कहा कि इस तरह के 581 'फरार' चिकित्सकों की मंत्रालय ने पहचान की है। इसमें से 104 की सेवाएं पहले ही समाप्त की जा चुकी हैं।

उन्होंने कहा, "ऐसे चिकित्सक साक्षात्कार में आते हैं, अपना नियुक्ति पत्र लेते है और विभाग में शामिल हो जाते हैं। कुछ दिनों बाद, वे छोड़कर चले जाते है। हम उन्हें रोकने में सक्षम नहीं हैं और न ही अदालतें। आदर्श रूप में, उन्हें अपने जाने से पहले इस्तीफा प्रस्तुत करना चाहिए।"

सरकार ने इसकी सूचना महाराष्ट्र चिकित्सा शिक्षा विभाग और महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल को दे दी है, जो इन चिकित्सकों के खिलाफ भविष्य में कार्रवाई तय करेगा।