3600 करोड़ खर्च कर बीच समुद्र में स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से भी बड़ी शिवाजी की प्रतिमा बनाएगी महाराष्ट्र सरकार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार (24 दिसंबर) को महराष्ट्र में होंगे। वह वहां कुछ योजनाओं का शीलान्यास करने के लिए जा रहे हैं। जिसमें मुंबई ट्रांसहॉर्बर लिंक, मेट्रो 2B,मेट्रो-4, दो फ्लाईओवर और एक दूसरी सड़क का शीलान्यास शामिल है। लेकिन सबकी निगाहें शिवाजी की प्रतिमा के भूमिपूजन पर होंगी। मोदी और राज्य की बीजेपी गठबंधन सरकार ने मराठा सेनानी शिवाजी की विशाल प्रतिमा बनवाने के बारे में विचार किया है। यह प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से भी बड़ी होने वाली है। उसकी लंबाई 210 मीटर होगी। उसे अरब सागर के बीच में बनाए जाने की बात कही जा रही है। जिसके लिए 16 हेक्टेयर की जमीन भी ले ली गई है। इकनॉमिक टाइम्स के मुताबिक, उस प्रतिमा को बनाने का कुल खर्च 3,600 करोड़ रुपए आने वाला है।

देवेंद्र फणनवीस सरकार ने यह कदम काफी सोच-समझकर उठाया है। दरअसल, राज्य में चल रहे मराठा आंदोलन की वजह से मराठाओं के बीच बीजेपी की छवि खराब हुई है। ऐसे में राज्य सरकार बेकफुट पर है। दरअसल, मराठा लोग अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम को हटाने की मांग कर रहे हैं। इसके अलावा वह चाहते हैं कि उनकी जाति को आरक्षण दिया जाए।

देवेंद्र फणनवीस की सरकार मराठाओं को आश्वासन देती रही है कि उन लोगों को आरक्षण दिया जाएगा और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम में भी बदलाव किए जाएंगे ताकि उसका गलत फायदा ना उठाया जा सके। हालांकि, फणनवीस सरकार के लिए मराठाओं को आरक्षण देना इतना भी आसान नहीं है। क्योंकि उनके आरक्षण देने के फैसले पर मुंबई हाईकोर्ट ने स्टे लगा दिया है। मुंबई में 32 प्रतिशत जनसंख्या मराठाओं की है। ऐसे में वह किसी भी पार्टी के लिए एक बड़ा वोटबैंक हैं।

POPULAR ON IBN7.IN