एफटीआईआई के विद्यार्थियों ने भूख हड़ताल वापस ली

पुणे: पुणे स्थित भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) के अनशनकारी छात्रों ने रविवार को हड़ताल के 108वें दिन अपनी क्रमिक भूख हड़ताल वापस ले ली। यह कदम सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से 29 सितंबर को बातचीत करने के लिए राजी होने के बाद उठाया गया है। छात्रों को अब समाधान की उम्मीद है।

भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान के 250 से ज्यादा विद्यार्थी पिछले 100 दिनों से अधिक समय से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य एवं अभिनेता गजेंद्र चौहान को संस्थान का अध्यक्ष नियुक्त किए जाने के खिलाफ हड़ताल पर हैं। विद्यार्थियों का मानना है कि गजेंद्र इस पद के काबिल नहीं हैं।

अब तक न तो अनशनकारी विद्यार्थी, गजेंद्र और न सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ही इस मुद्दे का कोई पुख्ता हल निकाल पाया है। अब उम्मीद की एक हल्की सी किरण नजर आई है।

एफटीआईआई के छात्र संघ द्वारा जारी एक वक्तव्य के मुताबिक, "आज सुबह हमें संयुक्त सचिव द्वारा ईमेल से एक अधिकारिक सूचना मिली, जिसमें मुंबई के फिल्म डिविजन संस्थान में सुबह 11 बजे मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक की पुष्टि की गई है।"

वक्तव्य के मुताबिक, "बैठक की औपचारिकताएं पूरी करने की मांग पर तुरंत कार्रवाई किए जाने पर एफटीआईआई के छात्र खुश हैं और इस मामले में समाधान की उम्मीद के साथ मंत्रालय से बातचीत करेंगे।"

एफटीआईआई के छात्रों ने कहा, "हालांकि भूख हड़ताल वापस ले ली गई है, लेकिन हड़ताल फिलहाल जारी रहेगी।"

एफटीआईआई के छात्र संघ अध्यक्ष हरिशंकर नचिमुथु को संबोधित एक पत्र में सूचना और प्रसारण मंत्रालय के संयुक्त सचिव के. संजय मूर्ति ने पांच छात्रों के नाम पूछे हैं, जो छात्रों की ओर से बैठक में हिस्सा लेंगे।

मूर्ति ने पत्र में लिखा, "भूख हड़ताल तुरंत वापस ली जाए।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

POPULAR ON IBN7.IN