केरल में राजस्व अधिकारियों के रवैये से परेशान किसान ने आत्महत्या की

केरल के कोझिकोड में कथित तौर पर राजस्व अधिकारियों के रवैये से परेशान एक किसान ने राजस्व कार्यालय में ही फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। आरोप है कि राजस्व अधिकारियों ने उसका भूमि कर लेने से मना कर दिया था और इसके लिए वह पिछले दो वर्षो से राजस्व अधिकारियों से जूझ रहा था। सरकार ने इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं।

57 वर्षीय किसान के.पी. जॉय ने चेम्बनोदू गांव के राजस्व कार्यालय में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इससे पहले उसने कथित तौर पर राजस्व अधिकारियों को अपने भूमि कर का भुगतान करने की कई बार कोशिश की थी, जिससे उन्होंने इनकार कर दिया था।

जॉय को बुधवार देर रात सरकारी कार्यालय में फंदे से लटकता पाया गया, जहां वह और उनका परिवार पिछले दो सालों से राजस्व अधिकारियों से भूमि कर जमा कराने को लेकर जूझ रहा था।

घटना के व्यापक विरोध के बाद गुरुवार को ग्रामीण सहायता अधिकारी सिरीश को निलंबित कर दिया गया।

राज्य के राजस्व मंत्री ई. चंद्रशेखरन ने गुरुवार को कहा कि घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, "जिलाधिकारी से मामले की जांच को कहा गया है। हम सुनिश्चित करेंगे कि ग्रामीण कार्यालय में दोषी अधिकारी के खिलाफ सभी आवश्यक कदम उठाए जाएं।"

विभिन्न स्थानों पर राजस्व अधिकारियों द्वारा तकनीकी मुद्दों का हवाला देकर किसानों के भूमि कर को अस्वीकार करने की शिकायतें आ रही हैं।

राज्य के विद्युत मंत्री एम.एम. मणि गुरुवार को मृतक के घर पहुंचे। मणि ने कहा कि उन्होंने जिलाधिकारी से बात की है। उन्होंने आश्वस्त किया कि जॉय के परिवार को न्याय मिलेगा।

मणि ने कहा, "राज्य मंत्रिमंडल इस मामले में आवश्यक कदम उठाएगा।"

POPULAR ON IBN7.IN