केरल उच्च न्यायालय 4 जनवरी को करेगा लवलिन मामले की सुनवाई

कोच्चि:  केरल उच्च न्यायालय ने गुरुवार को एसएनसी लवलिन मामले में सीबीआई की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई के लिए अगले वर्ष चार जनवरी की तारीख तय की है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की ओर से दर्ज इस मामले में केरल के मुख्यमंत्री पिनारई विजयन आरोपी थे, लेकिन एक विशेष न्यायालय ने उन्हें वर्ष 2013 में दोषमुक्त करार दिया था।

इस फैसले के खिलाफ सीबीआई उच्च न्यायालय पहुंची।

अदालत ने गुरुवार को मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि वह चार जनवरी से सभी पक्षों की सुनवाई करने और उसके बाद 12 जनवरी तक लगातार सुनवाई करने के लिए तैयार है।

सीबीआई की ओर से पेश अतिरिक्त महाधिवक्ता के. एन. नटराजन ने कहा कि उन्हें अपनी दलील पेश करने के लिए तीन दिन चाहिए।

वर्ष 1997 में विजयन जब राज्य के ऊर्जा मंत्री थे तो कनाडा की कंपनी एसएनसी लवलिन के साथ तीन जेनरेटरों की मरम्मत के लिए करार हुआ था। इस करार से सरकार को 266 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।

सीबीआई ने इस मामले में विजयन को सातवां आरोपी बनाया था। इसे लेकर राजनीतिक विवाद उभरा था।

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का नेतृत्व तब विजयन के बचाव में उतरा था और कहा था कि उन्हें पार्टी राज्य समिति सचिव का पद छोड़ने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह कोई संवैधानिक पद नहीं है।

  • Agency: IANS