कर्नाटक: सरकार पर सस्पेंस बरकरार, राज्यपाल वजुभाई वाला पर टिकी सबकी निगाहें

कर्नाटक में नतीजे तो आ गए लेकिन सरकार किसकी बनेगी ये अब तक साफ़ नहीं पाया है. ऐसे में सभी की निगाहें कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला पर टिक गई हैं. बीजेपी 40 सीट से बढ़कर 104 तक पहुंच गई लेकिन बहुमत से 8 सीट कम रह गई. जेडीएस जिसे एक दिन पहले तक किंग मेकर की भूमिका में देखा जा रहा था वो अब किंग बनने की रेस में है. दरअसल कर्नाटक में कांग्रेस ने BJP को सत्ता से दूर रखने के लिए जेडीएस को बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान किया है लेकिन इसके बाद भी वहां सबकुछ ठीक नहीं नज़र आ रहा है. 
एचडी कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनाए जाने को लेकर कोई मतभेद नहीं है लेकिन सूत्रों के मुताबिक एचडी देवैगौड़ा चाहते हैं कि उनके बड़े बेटे रेवन्ना को उप-मुख्यमंत्री बनाया जाए. ऐसे में कांग्रेस इसके लिए तैयार होती है या नहीं ये देखना होगा. इन सब के बीच अब से कुछ देर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक होगी, जिसमें विधायक दल का नेता चुना जाएगा. इसके अलावा बीजेपी विधायक दल की बैठक भी आज ही होगी, जिसमें पार्टी के सीएम पद के उम्मीदवार येदियुरप्पा को पार्टी का नेता चुना जाएगा. येदियुरप्पा के मुताबिक उसके बाद सभी विधायक गर्वनर से मिलकर उनसे बीजेपी को सरकार बनाने का मौका देने का आग्रह करेंगे. 

वहीं कांग्रेस के महासचिव गुलाम नबी आजाद ने मीडिया से कहा कि जेडीएस व कांग्रेस राज्यपाल से मिलेंगे और सरकार बनाने का दावा करेंगे. आजाद के साथ निर्वतमान मुख्यमंत्री सिद्धारमैया भी मौजूद थे. पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी देवेगौड़ा की अगुवाई वाली जेडीएस ने फौरन कांग्रेस के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और सरकार बनाने के दावे के साथ राज्यपाल को पत्र लिखा है. इसके बाद जेडीएस नेता व पूर्व मुख्यमंत्री एच.डी.कुमारस्वामी व कांग्रेस के सिद्धारमैया ने राज्यपाल से मुलाकात की और सरकार बनाने का दावा पेश किया. कुमारस्वामी ने कहा, "मैंने सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का समर्थन स्वीकार किया है."

त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में सदन में नेता को एक नियत समय में बहुमत साबित करने को कहा जाता है. कर्नाटक में कांग्रेस व जेडीएस का चुनाव पूर्व गठबंधन नहीं था. यह राज्यपाल पर है कि वह किसको पहले बुलाते हैं.

 

 
 

POPULAR ON IBN7.IN