18 महीने के बच्चे को केले के पत्तों में लपेटा, गर्म चारकोल पर लिटाया, पूरा किया 'वादा'

बेंगलुरु: एक भयावह परंपरा में यहां की एक दरगाह में माता-पिता ने अपने 18 महीने के बेटे को केले के पत्तों में लपेट कर हल्के गर्म चारकोल के बिस्तर पर लिटा दिया.  घटना धारवाड़ जिले के अल्लापुर में हुई. वीडियो में एक व्यक्ति केले के पत्तों में लिपटे बच्चे को हल्के गर्म चारकोल के बिस्तर पर लिटाता दिख रहा है. बच्चा बेतरह रो रहा है और वहां से हटना चाहता है.

गर्म चारकोल में से लगातार धुंआ निकल रहा है. पुलिस ने बताया, ‘बच्चे के माता-पिता ने दो वर्ष पहले बच्चे के लिए कोई मन्नत मांगी थी. उनकी मन्नत पूरी होने पर वे अपने वादे को पूरा करने आए. बच्चे को चारकोल पर लिटाया गया, इसमें आग नहीं थी लेकिन यह थोड़ा गर्म जरूर था. वह केले के पत्तों में लिपटा था. यह कुछ सेकेंड तक चला.’ पुलिस ने बताया कि इस बाबत कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है लेकिन बाल कल्याण समिति को सूचित किया गया है और उनसे अनुरोध किया गया है कि वे अभिभावकों को समझाएं.

कुछ दिन पहले ही कर्नाटक के मंत्रिमंडल ने ‘अमानवीय रस्मों रिवाजों’ को खत्म करने के लिए अंधविश्वास निरोधी विधेयक को मंजूरी दी थी. प्रस्तावित ‘कर्नाटक प्रिवेंशन ऐंड इरेडिकेशन ऑफ इनह्यूमन एविल प्रैक्टिसेस ऐंड ब्लैक मैजिक बिल, 2017’ को विधानसभा के अगले सत्र में सदन में रखा जाएगा.

POPULAR ON IBN7.IN