बारिश से कर्नाटक के सूखाग्रस्त इलाकों को राहत

मानसून आने से पहले की बारिश ने कर्नाटक के लोगों को गर्मी व पानी की किल्लत से मुक्ति दिलाई है। इस राज्य में दशकों बाद सालभर के भयंकर सूखे के बाद बारिश की फुहार पड़ी है। कर्नाटक के राज्य प्राकृतिक आपदा निगरानी केंद्र के निदेशक जी.एस. श्रीनिवास रेड्डी ने आईएएनएस से कहा, "दक्षिणी राज्य में इस महीने ग्रीष्मकालीन बारिश पिछले साल के लंबे सूखे की तुलना में अच्छी रही और यह जून के पहले हफ्ते से दक्षिण-पश्चिम मानसून से पहले अच्छी शुरुआत हुई है।"

पिछले साल के विपरीत दक्षिण तटवर्ती, मध्य और उत्तर तटवर्ती इलाकों में राज्य में मध्यम व भारी बारिश मार्च से शुरू हुआ और 10 मई से और ज्यादा हुई है। इससे तालाब व झीले व दूसरे जलाशयों के भरने से लोगों को राहत मिली है, खास तौर से किसानों को जो सूखे से जूझ रहे थे।

रेड्डी ने मौसम के आंकड़ों के हवाले से कहा, "बारिश मई में दक्षिण तटवर्ती इलाके में 30 फीसदी ज्यादा और पश्चिमी घाट में मलंद इलाके में समान्य है। हालांकि उत्तरी व तटीय इलाकों में बारिश हो रही है, लेकिन असंतुलन की वजह से उत्तरी इलाके में 25-30 फीसदी की कमी है।"

मौसम विभाग के निदेशक सुंदर एम. मेत्री ने कहा, "मानसून कर्नाटक में अनुमानित समय से चार-पांच दिन पहले या बाद में पहुंचेगा।"

POPULAR ON IBN7.IN