राष्ट्रीय महिला आयोग ने परमेश्वरा, आजमी को नोटिस जारी किया

 

 

बेंगलुरु:  राष्ट्रीय महिला आयोग ने मंगलवार को कर्नाटक के गृह मंत्री जी. परमेश्वरा और समाजवादी पार्टी के नेता अबु आसिम आजमी के खिलाफ नोटिस जारी किया। इन्हें नए साल की पूर्व संध्या पर भीड़ द्वारा महिलाओं के साथ छेड़छाड़ किए जाने पर लैंगिकवादी टिप्पणी करने के आरोप में नोटिस जारी किया गया है। राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) की प्रमुख ललिता कुमारमंगलम ने कहा कि परमेश्वरा और आजमी को नोटिस जारी किए गए हैं। इसे लेकर कर्नाटक सरकार को सोमवार को एक पत्र भेजा गया है जिसमें छेड़छाड़ मामले में कार्रवाई की बात कही गई है।

कुमारमंगलम ने आईएएनएस से कहा, "हमने मंत्री से अपने बयान के स्पष्टीकरण और एक सार्वजनिक माफी के लिए कहा है। यदि ऐसा नहीं हुआ तो हम आगे कार्रवाई करेंगे। हमने उन्हें पांच दिन का समय जवाब देने के लिए दिया है।"

नशे में धुत पुरुषों के एक समूह ने 31 दिसम्बर की रात बेंगलुरु में एमजी रोड और ब्रिज रोड पर महिलाओं के साथ छेड़खानी की।

अबु आजमी ने मंगलवार को कहा, "यह तो होना ही था महिलाएं नग्नता को फैशन कहती हैं और छोटे कपड़े पहनती हैं।"

बताया जा रहा है कि आजमी ने टिप्पणी की कि महिलाएं 'चीनी' की तरह और पुरुष चींटों की तरह होते हैं। उन्होंने महिलाओं की तुलना पेट्रोल से की। कहा जा रहा है कि उन्होंने कहा कि "जहां पेट्रोल होगा, वहां आग होगी ही, जहां चीनी होगी वहां चींटे आएंगे ही।"

परमेश्वरा ने भी छेड़छाड़ के लिए 'पश्चिमी तरीकों' को दोषी ठहराया। उन्होंने कहा कि क्रिसमस और नए साल की पूर्व संध्या पर भीड़ का महिलाओं से छेड़छाड़ किया जाना असामान्य नहीं था।

मंत्री ने यह भी कहा कि 'इस तरह की चीजें' होती रहती हैं।