सुंजवान कैंप पर आतंकी हमले में दो जवान शहीद

जम्मू:  जम्मू शहर के बीचोबीच बसे सुंजवान आर्मी ब्रिगेड पर हुए हमले में अब तक तीन आतंकियों को मार गिराया गया है. सुंजवान कैम्प में एक से दो और आतंकियों के छिपे होने की आशंका जताई जा रही है. अंधेरा होने ही सेना ने क्वार्टर समेत पूरे इलाकों को घेर लिया है. वहीं सुंजवान कैम्प के बाहर पुलिस ने अपनी तैनाती बढ़ा दी है. 25 घंटे बाद भी आतंकियों की तलाश में ऑपरेशन जारी है.

सेना ने शऩिवार शाम 5.30 बजे तक की अपडेट पर बयान जारी किया है. इसके मुताबिक, इस हमले में सेना का एक जेसीओ और एक एनसीओ शहीद हुए है. दोनों शहीद जम्मू-कश्मीर के ही है. जबकि पांच महिलाओं और बच्चों समेत कुल नौ घायल है, जिनमें दो की हालत गंभीर बनी हुई है.

कैम्प के अंदर 150 घरों को खाली करा लिया गया है और यहां रहने वालों को सुरक्षित जगह शिफ्ट किया गया है. सेना की कार्रवाई में मारे गये दोनों आतंकी जैश-ए- मोहम्मद के हैं. ये आतंकी ऑर्मी की कॉम्बैट ड्रेस पहने हुए थे. उनके पास से एके-56 असॉल्ट राइफल, भारी मात्रा में गोली बारुद और हैंड ग्रेनेड बरामद हुए हैं. आतंकियों ने शनिवार सुबह 4.50 बजे कैम्प पर फायरिंग की थी और कैम्प के पिछले हिस्से से अंदर दाखिल हुए थे.

इस आतंकी हमले का मास्टरमाइंड रउफ असगर है. रउफ मौलाना जैश के चीफ मसूद अजहर का भाई है. फरवरी के पहले हफ्ते में रउफ ने भाई मौलाना मसूद अजहर के साथ हिज्बुल के चीफ सैयद सलाउद्दीन से मिला था और परसों आतंकी अफजल गुरु की बरसी के दिन दोनों ने हमले को अंजाम देने के लिए मदद मांगी थी.