आतंकियों से 6 घंटे चली मुठभेड़ की चपेट में आई 6 साल की बच्ची

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक छह साल की बच्ची की जान चली गई। पुलिस के मुताबिक कुपवाड़ा के हयामा गांव में 6 घंटे तक चली इस मुठभेड़ में 6 साल की कनीजा को गोली का खोल लग गया, जिसके बाद उसकी मौत हो गई। वहीं मुठभेड़ में बच्ची का सात साल का भाई फैसल भी घायल हो गया। पुलिस के मुताबिक मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैबा के 3 आतंकियों को मार गिराया गया। वहीं सुरक्षा बलों में से एक कॉन्स्टेबल इस मुठभेड़ के दौरान घायल हो गया। 41 राष्ट्रीय राइफल्स के जवान और जम्मू-कश्मीर पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने मिलकर जुगतियाल गांव में जॉइन्ट सर्च ऑपरेशन चलाया था। कुपवाड़ा जिले का यह गांव एलओसी से महज 10 से 12 किलोमीटर की दूरी पर है और यह काफी घने जंगल के बीच में है।

जैसे ही सुरक्षा बल सर्च ऑपरेशन के दौरान एक घर में दाखिल हुए तो आतंकियों ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। इसी दौरान छह साल की बच्ची कनीजा फायरिंग के दौरान मारी गई। वहीं उसका बड़ा भाई फैसल, फायरिंग में घायल हो गया। फैसल इलाज अभी जारी है और उसके स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार हो रहा है। वहीं दानिश अहमद नाम का एक कॉन्स्टेबल भी इस मुठभेड़ में घायल हो गया। वहीं आईजी मुजतबा गिलानी ने मामले को लेकर जानकारी दी। उन्होंने कहा- “बच्ची एनकाउंटर की जगह से 100 मीटर की दूरी पर एक दूसरे घर में मौजूद थी। फ़ायरिंग के बाद गोली का एक खाली खोल उसे जा लगा जिसके बाद उसकी मौत हो गई। वहीं उसका भाई भी घायल हो गया।” वहीं गिलानी ने तीन मिलिटेंट्स के मारे जाने की बात भी कही। मारे गए आतंकियों की पहचान की जा रही है।

वहीं इस मामले को सुरक्षा बलों का ऑपरेशन अभी भी जारी है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, मारे गए आतंकी इलाके में किसी दूसरे मिलिटेंट ग्रुप से मिलने आए थे, इस बात की पूरी संभावना है। ऐसे में सुरक्षा बलों के इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी हैं। वहीं बच्ची की मौत के बाद इस घटना की काफी आलोचना की जा रही है। कई आम लोग और अलगाववादी नेता, बच्ची की मौत की घटना की निंदा कर रहे है।

POPULAR ON IBN7.IN