हिमाचल में बेरोजगारी भत्ता योजना शुरू की गई

चंबा:  हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने राज्य में वर्ष के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर शनिवार को राज्य के 10 बेरोजगार युवाओं को 1,000-1,000 रुपये के चेक प्रदान किए। कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव-2012 के लिए प्रचार करते हुए बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया था।

हिमाचल की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ पर आयोजित समारोह में वीरभद्र सिंह ने बेरोजगारी भत्ता योजना लांच की।

इस अवसर पर वीरभद्र सिंह ने कहा कि उनकी सरकार हमेशा से युवाओं के कल्याण के बारे में सोचती रहती है और देर से ही सही, इसने चुनावी वादे को पूरा करते हुए बेरोजगारी भत्ता देने का फैसला लिया है।

इस योजना के तहत कम से कम इंटर तक शिक्षित राज्य के बेरोजगार युवकों को 1,000 रुपये प्रति महीना प्रदान किया जाएगा। इसके अलावा विकलांग बेरोजगार युवकों को 1,500 रुपये प्रति महीना दिया जाएगा। कुल मिलाकर राज्य के 1,50,000 युवाओं को इस योजना का लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने संविदा पर नियुक्त कर्मचारियों के नियमितीकरण की अवधि पांच वर्ष से घटाकर तीन वर्ष कर दी।

अन्य घोषणाओं में मुख्यमंत्री ने आतंकवाद से ग्रस्त राज्य जम्मू एवं कश्मीर की सीमा से लगे चंबा जिले में नियुक्त विशेष पुलिस अधिकारियों की मासिक मानदेय 4,000 रुपये से बढ़ाकर 6,000 रुपये कर दी।

चंबा के चुराह इलाके में 1998 में हुए आतंकवादी हमले में 35 लोगों की मौत के बाद इलाके में अर्धसैनिक बलों की मदद के लिए चंबा में इस समय पुलिस के 500 विशेष अधिकारी नियुक्त हैं।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि राज्य सरकार बेरोजगार युवाओं की कुशलता बढ़ाने को प्राथमिकता दे रही है। इस संबंध में राज्य सरकार ने 500 करोड़ रुपये की लागत से कौशल विकास भत्ता योजना लागू की है।

POPULAR ON IBN7.IN