करंट से मृत किसान की विधवा को मुआवजा देने का आदेश

नई दिल्ली, 14 अप्रैल (आईएएनएस)| हरियाणा में एक कसान की करंट लगने से हुई मौत के बाद किसान की विधवा को शीर्ष उपभोक्ता अदालत द्वारा आठ लाख रुपये का मुआवजा प्रदान किया गया। इसके अलावा लाखों रुपये का ब्याज भी मुआवजे में शामिल है। किसान की मौत इलेक्ट्रिसिटी ट्रांसफार्मर के ठीक से रख-रखाव न करने के कारण हुई थी।

राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग ने दक्षिणी हरियाणा बिजली वितरण निगम को सेवा में लापरवाही बरतने और कमी का दोषी पाया।

निगम को किसान की विधवा परमिला देवी को 818,000 रुपये मुआवजा देने का निर्देश दिया गया। साथ ही 12 प्रतिशत प्रतिवर्ष की ब्याज दर से 10,000 रुपये, उनके पति रणबीर सिह की 27 मार्च, 2000 को हुई मृत्यु के छह महीने के बाद से वास्तविक भुगतान होने तक दिए जाने का भी निर्देश दिया।

आयोग ने राज्य उपभोक्ता आयोग की जांच रिपोर्ट पर सहमति व्यक्त की। जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि किसान रणबीर की मृत्यु गुड़गांव जिले के खांडेवाला गांव में एक इलेक्ट्रिसिटी ट्रांसफार्मर को छूने से हुई जिस पर अच्छी तरह आवरण नहीं चढ़ाया गया था, जो स्पष्टत: निगम की लापरवाही को दर्शाता है।

हालांकि निगम के पास आयोग के इस फैसले को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती देने का विकल्प मौजूद है।

राज्य आयोग के आदेश के खिलाफ ऊर्जा वितरण निगम द्वारा दी गई याचिका को किसान की विधवा के पक्ष में खारिज करते हुए राष्ट्रीय आयोग ने निगम अधिकारियों को तथ्यों को तोड़ने-मरोड़ने के लिए कड़ी फटकार लगाई।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN