जाट आरक्षण आंदोलन : रोहतक में सीएम खट्टर का विरोध, रोकना पड़ा बीच में भाषण

चंडीगढ़: जाट आंदोलन को लेकर रोहतक पहुंचे सीएम खट्टर ने कहा कि यह कोई छोटी-मोटी घटना नहीं है। इस घटना के पीछे कुछ ताकतें और साजिश है, उसकी जांच होगी।

सीएम ने कहा कि जानमाल का बहुत नुकसान हुआ है। दंगाइयों और उपद्रवियों की पहचान करके उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा जो सरकारी अधिकारी और पुलिसवाले इस विरोध-प्रदर्शन के दौरान काम में कोताही बरतने के दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी। सीएम ने भरोसा दिलाया कि जिस किसी का भी जितना भी नुकसान हुआ है, उसकी पूरी भरपाई होगी, कोई कोताही नहीं बरती जाएगी। जहां तक नौकरी का सवाल है तो जो गरीब लोग हैं, उनके लिए भी नौकरी का प्रावधान किया जाए।

सीएम खट्टर जब भाषण दे रहे थे तो लोगों ने उनका विरोध किया, जिसके चलते उन्हें बीच में ही भाषण छोड़ना पड़ा।

उधर, हरियाणा में जाटों का हिंसक आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है। आरक्षण की मांग माने जाने के बावजूद कई जगहों पर आंदोलनकारियों का उपद्रव जारी है। कई जगहों पर उपद्रवी डटे हुए हैं। अब तक की हिंसा में 18 लोगों की मौत हो चुकी हैं।

हरियाणा में जाट आंदोलन के 10वें दिन आज दिल्ली चंडीगढ़ को जोड़ने वाले नेश्नल हाइवे नंबर 1 और नेश्नल हाइवे नंबर 10 पर पुलिस प्रशासन ने ट्रैफिक बहाल होने का दावा किया है। दिल्ली-रेवाड़ी-जयपुर रेल ट्रैक को भी खाली करा लिया गया है। तनावपूर्ण हालात को देखते हुए रोहतक, सोनीपत, हिसार, भिवानी और झज्जर में अब भी कर्फ्यू लगा हुआ है। हिसार में आज सुबह 6-8 के बीच के बीच कर्फ्यू में ढील दी गई। आज भी स्कूल-कॉलेज बंद हैं।

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर और दो अन्य मंत्रियों को दिल्ली तलब किया गया है। वे केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू से मिलेंगे। अब तक 20,000 करोड़ की संपत्ति का नुकसान हुआ है, हालांकि आज सुबह कुछ राहत भरी खबरें आई हैं। NH-1 और NH-10 को खाली करा लिया गया है। दिल्ली-रेवाड़ी-जयपुर रेल ट्रैक को भी खाली करा लिया गया है।

आंदोलन में सबसे ज्यादा नुकसान रोहतक को हुआ है और अभी भी हालात यहां सामान्य नहीं है। रोहतक और सोनीपत में फिर से हिंसक वारदातों की खबरें आ रही हैं। यहां गाड़ियों को जलाया गया है।रोहतक पुलिस लाइन में सेना और अर्द्धसैनिक बलों को हेलीकॉप्टर से उतारा जा रहा है. रोहतक पुलिस लाइन में सबसे ज़्यादा सुरक्षा बल मौजूद हैं।

जाट आरक्षण के मुद्दे की आग राजस्थान तक पहुंची और भरतपुर में प्रदर्शनकारियों ने हाइवे जाम कर दिया। साथ ही एक बस को आग के हवाले भी कर दिया।

हरियाणा सरकार ने आरक्षण के लिए जाटों के आंदोलन में निजी संपत्ति को पहुंचे नुकसान के लिए पूर्ण मुआवजे के साथ मारे गए 19 लोगों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की।

इसके साथ ही हरियाणा कैबिनेट की शाम को हुई बैठक हंगामेदार रही। बैठक में शामिल राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के राजनीतिक सचिव प्रोफेसर वीरेंद्र को गिरफ्तार करने की मांग की। विज का आरोप है कि एक ऑडियो क्लिप में प्रोफेसर वीरेंद्र किसी को हिंसा भड़काने के लिए उकसाते हुए सुने जा रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार, विज ने कहा कि अगर प्रोफेसर वीरेंद्र को गिरफ़्तार नहीं किया गया तो वह इस्तीफ़ा दे देंगे, हालांकि कैबिनेट की बैठक से बाहर आने के बाद उन्होंने ये बात नहीं कही लेकिन उनकी नाराजगी साफ झलक रही थी।

POPULAR ON IBN7.IN