छात्रा की आत्महत्या को लेकर शिक्षकों को बंधक बनाया

यहां समीप के एक गांव में गुस्साए ग्रामीणों ने सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल के शिक्षकों को गुरुवार को बंधक बना लिया। चार दिन पहले ग्यारवीं कक्षा की एक छात्रा के आत्महत्या कर लेने से ग्रामीण नाराज थे। छात्रा परीक्षा में फेल हो गई थी।

यहां से 11 किलोमीटर दूर धनकोट गांव के ग्रामीणों ने वाणिज्य के शिक्षक सुनील यादव को पद से मुक्त करने की मांग की। जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) ने आईएएनएस को बताया कि ग्रामीणों की मांग मान ली गई है और शिक्षक को पद से मुक्त कर दिया गया है।

जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि जो भी छात्र असफल घोषित किए गए हैं उनकी उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन दूसरे स्कूल के सक्षम शिक्षक से कराया जाएगा।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि छात्रा को शिक्षकों ने जानबूझ कर फेल किया है। गुरुवार को नए शिक्षण सत्र के लिए स्कूल खुला था जब ग्रामीणों ने स्कूल में हंगामा किया।

ग्रामीणों ने शिक्षकों को कुछ घंटों तक बंधक बनाए रखा और पुलिस का हस्तक्षेप होने के बाद ही उन्हें मुक्त किया। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि राजेश कुमारी ने अपने घर पर छत के पंखे से फंदा लगा कर जान दे दी। अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद उसे 11वीं की परीक्षा में असफल घोषित किया गया था।

छात्रा ने आत्महत्या की वजह के संबंध कोई पत्र नहीं छोड़ा है।

छात्रा के पिता मुकेश कुमार ने पुलिस को बताया कि परीक्षा के परिणाम को लेकर लड़की बेहद परेशान थी। 23 मार्च को परिणाम घोषित किया गया और 24 मार्च को उसने पंखे से फंदा लगा लिया।

राजेंद्र पार्क थाना के प्रभारी विजेंदर सिंह ने कहा कि इस संबंध में दुर्घटना मृत्यु का मामला दर्ज किया गया है जिसमें किसी को भी आरोपी नहीं बनाया गया है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN