विधायकों की टिप्पणी से पुलिस का मनोबल प्रभावित : पर्रिकर

मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि विधायकों और मंत्रियों द्वारा सार्वजनिक रूप से पुलिस व ड्रग माफिया के बीच गठजोड़ की बात कहने से पुलिस बल का मनोबल प्रभावित हुआ है और गोवा की छवि धूमिल हुई है। इस हफ्ते के प्रारंभ में विधायकों और मंत्रियों को भेजी गई एक टिप्पणी में पर्रिकर ने गोवा में मादक पदार्थो की तस्करी को लेकर अनुचित व सनसनीखेज बयानबाजी के लिए विधायकों की निंदा की है। उन्होंने कार्रवाई करने का भरोसा देते हुए विधायकों से सार्वजनिक रूप से बयानबाजी करने के बजाय मादक पदार्थो की तस्करी से जुड़ी गतिविधियों के बारे में जानकारी देने के लिए कहा है।

कुछ विधायकों को मंगलवार को पर्रिकर की टिप्पणी प्राप्त हुई है।

पर्रिकर ने टिप्पणी में कहा है, "यह देखने में आया है कि कुछ विधायकों ने कुछ पुलिस अधिकारियों और मादक पदार्थ तस्करों के बीच गठजोड़ के बारे में बयानबाजी की है।"

उन्होंने कहा है, "इस तरह की सार्वजनिक बयानबाजी पुलिस बल का मनोबल तोड़ती है। अनुचित सनसनीखेज बयान राज्य की छवि धूमिल करते हैं और इस समस्या का समाधान करने में हमारे लिए मददगार साबित नहीं होते, क्योंकि अपराधी इस तरह के बयान से सचेत हो जाते हैं।"

हाल के दिनों में सत्तारूढ़ और विपक्षी पार्टियों के विधायक राज्य में मादक पदार्थो की तस्करी को लेकर तस्करों व पुलिस अधिकारियों के बीच गठजोड़ होने की शिकायत करते रहे हैं।

सत्ताधारी दल के कलांगुते से विधायक माइकल लोबो और सिओलिम से विधायक विनोद पालीनकर ने भी मादक पदार्थो की तस्करी पर सख्त रुख नहीं अपनाने को लेकर पुलिस की आलोचना की है।

पर्रिकर ने हालांकि अपनी टिप्पणी में विधायकों को मादक पदार्थो से संबंधित गतिविधियों के संबंध में जानकारी मुहैया कराने पर सख्त कार्रवाई करने का भरोसा दिया है।

POPULAR ON IBN7.IN