क्रेडिट कार्ड हैकिंग मामले में दिल्ली के 4 युवक गिरफ्तार

रायपुर, 18 मार्च (आईएएनएस/वीएनएस)। छत्तीसगढ़ पुलिस ने राजधानी में आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहकों के क्रेडिट कार्ड हैक कर रुपये गबन करने के मामले में दिल्ली के चार युवकों को गिरफ्तार करने में बड़ी सफलता हासिल की है। चारों युवकों को सोमवार को दिल्ली से रायपुर लाया गया। पुलिस अपराध शाखा के टीआई आर.के. साहू ने बताया कि गिरफ्तार किए गए चारों युवकों ने बेहद पेशेवर व शातिर तरीके से काम किया। पुलिस ने खुलासा किया कि आरोपियों ने न केवल छत्तीसगढ़ के रायपुर, दुर्ग-भिलाई में बल्कि औरंगाबाद (महाराष्ट्र), दिल्ली, इंदौर, ग्वालियर, भोपाल व आगरा में क्रेडिट कार्ड से रुपये गबन करने के 10 से अधिक घटनाओं को अंजाम दिया।

आरोपियों की तलाश में क्राइम ब्रांच की टीम दिल्ली गई थी। चारों आरोपियों को गत 15 मार्च की रात दिल्ली की नानकपुरी बस्ती कोटला मुबारकपुर से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार किए गए युवकों में मुख्य आरोपी राजा उर्फ अमित सक्सेना (30) है जो राजस्थान के गंगानगर जिले के अनूपगढ़ का रहने वाला है।

दूसरा आरोपी कौटिल्य शर्मा (27) दिल्ली के कोटला स्थित उदयचंद मार्ग का निवासी है। तीसरा आरोपी धीरज कुमार सोलंकी (23) दक्षिणी दिल्ली के गोविंदपुरी-कालकाजी इलाके का तथा चौथा आरोपी मलकी उर्फ मल्ली जोगिंदर सिंह (26 वर्ष) नानकपुरी बस्ती मुबारकपुर कोटला दिल्ली का रहने वाला है। पुलिस ने चारों युवकों के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।

पुलिस ने चारों आरोपियों के पास से 30 हजार रुपये नकद, दो मोबाइल फोन (कीमत 66000 रुपये), एक एलईडी (कीमत 30000), आईसीआईसीआई बैंक का फर्जी क्रेडिट कार्ड, फर्जी लाइसेंस, फर्जी पैन कार्ड और क्रेडिट कार्ड से प्राप्त रकम से खरीदे गए तीन मोबाइल फोन जब्त किए हैं।

पुलिस ने बताया कि चारों आरोपी आईसीआईसीआई बैंक के ग्राहकों को जारी क्रेडिट कार्ड का डिटेल बैंक के नई दिल्ली और गुड़गांव ग्राहक सेवा केंद्र से हासिल करते थे।

आरोपी युवक संबंधित राज्यों में जाकर आईसीआईसीआई बैंक के क्रेडिट कार्डधारकों से मिलते थे और उन्हें खरीददारी करने की उनकी निम्नतम सीमा को बढ़ाने के लिए कार्ड को अपग्रेड करने तथा उनकी सुविधाओं में विस्तार करने का झांसा देकर ग्राहकों से मोबाइल फोन से संपर्क कर उनका सही पता पूछते थे। इसके बाद वहां पहुंचकर स्वयं को बैंक ग्राहक सेवा केंद्र का कर्मी बताकर अपग्रेड करने के बहाने उनसे क्रेडिट कार्ड ले लेते थे। इसके बाद चारों आरोपी दिल्ली जाकर शॉपिंग माल से स्वीपिंग कर रकम गबन कर लेते थे।

ये चारों पूर्व में भी दिल्ली के द्वारिका इलाके में इस तरह के प्रकरण में गिरफ्तार हो चुके हैं। उनके खिलाफ प्रकरण न्यायालय में लंबित है।

कहां-कहां की वारदात :

-चारों आरोपियों ने इस वर्ष 25 से 28 फरवरी के बीच पुलिस लाइन में रहने वाले विमान तकनीकी विशेषज्ञ जी.एस. गोदरा के क्रेडिट कार्ड से गबन किया।

-इसी दौरान चारों ने आईसीआईसीआई बैंक के सामने रहने वाले एम.पी. पांडे के साथ धोखाधड़ी की।

-इसके बाद रायपुर के मनोज मिश्रा और पाथेर भट्टाचार्य के क्रेडिट कार्ड से छह हजार रुपये का गबन किया। इसके लिए उन्होंने इंग्लैंड के आईपी का उपयोग किया।

-इसी तरह आरोपियों ने दुर्ग-भिलाई व सुपेला में तीन-चार लोगों को अपना शिकार बनाया। चारों आरोपियों ने छत्तीसगढ़ के अलावा महाराष्ट्र के औरंगाबाद, दिल्ली, इंदौर, ग्वालियर, भोपाल व आगरा में 10 से अधिक लोगों को ठगी का शिकार बनाया।

इस पूरे मामले की कार्रवाई में क्राइम ब्रांच के टीआई आर.के. साहू, उच्च निरीक्षक मोहम्मद कलीम खान, प्रधान आरक्षक सरजू यादव, आरक्षक बलागत सरफराज चिश्ती, हिमांशु राठौर, अभिषेक र्कुे, अनिल पटेल, प्रदीप पटेल, अमित जेम्स व मोहन साहू शामिल थे।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।