छत्तीसगढ़ में सातवीं सदी की बेशकीमती मूर्ति चोरी

छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में चोरों ने पुरातात्विक नगरी सिरपुर से वर्षो पुरानी पौरुष प्रतिमा चुरा ली। पौरुष प्रतिमा सातवीं शताब्दी की बताई जाती है और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में उसकी अनुमानित कीमत पचास लाख रुपये बताई जा रही है। (19:54) 

महानदी तट पर स्थित सिरपुर के बौद्ध विहार में हाल ही में दलाईलामा भी पहुंचे थे। इस चोरी में किसी बड़े अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का हाथ होने की आशंका व्यक्त की जा रही है।

शनिवार को हुई चोरी की रिपोर्ट सोमवार देर रात सिरपुर चौकी में दर्ज कराई गई। पुलिस ने अज्ञात चोरों के खिलाफ धारा 379 के तहत प्रकरण दर्ज किया है। सिरपुर प्रभारी तीर्थराज गुलेंद्र ने बताया कि शनिवार की रात अज्ञात चोरों ने पुरातात्विक महत्व की पौरुष प्रतिमा को बौद्ध विहार से चुरा लिया। प्रतिमा की ऊंचाई 35 सेंमी एवं चौड़ाई 36 सेंमी और वजन चार किलो है। सातवीं शताब्दी की इस प्रतिमा को महाशिव गुप्त तिवरदेव ने बनवाया था।

बौद्ध विहार का चौकीदार दीनदयाल रविवार सुबह ड्यूटी पर आने के बाद पौरुष प्रतिमा को अपने स्थान पर नहीं देखा। उसने इसकी जानकारी फोरमेन रामलाल ध्रुर्वे को दी। सोमवार की शाम करीब पांच बजे फोरमेन ध्रुर्वे ने पुलिस चौकी पहुंच कर घटना की जानकारी सिरपुर प्रभारी को दी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

 

POPULAR ON IBN7.IN