चर्चित होगा पटना साहित्य महोत्सव : गुलजार

प्रसिद्ध गीतकार और शायर गुलजार ने शनिवार को कहा कि पटना में पहली बार आयोजित साहित्य महोत्सव आने वाले समय में जयपुर साहित्य महोत्सव की तरह चर्चित होगा। उन्होंने बिहार में नित नए प्रयोग होने की भी तारीफ की। बिहार दिवस के मौके पर आयोजित प्रथम पटना साहित्य महोत्सव समारोह में भाग लेते हुए गुलजार ने पुस्तकों के प्रति लोगों की दिलचस्पी कम होने का उल्लेख करते हुए कहा कि पुस्तकें कभी भी पृष्ठभूमि में नहीं जाएंगी। तकनीक के जमाने में पुस्तकों का शौक अवश्य कम हुआ है, परंतु उनका अपना अस्तित्व रहेगा।

उन्होंने कहा कि आज मिल्टन और शेक्सपियर को पाठ्यपुस्तकों में शामिल किया जाता है परंतु कालिदास को नहीं पढ़ाया जाता।

गीतकार गुलजार ने बड़े रूमानी अंदाज में पुस्तकों की पीड़ा का उल्लेख करते हुए कहा कि पहले किताबों के पन्नों में ही सूखे फूल मिलते थे और फूल खिलते थे। उन्होंने कहा कि बिहार में पाठक वर्ग काफी बड़ा है। यही कारण है कि यहां का साहित्य महोत्सव जयपुर के साहित्य महोत्सव की तरह लोकप्रिय होगा।

बदलते बिहार की तारीफ करते हुए महान शायर ने कहा कि पूरे देश में यही एक राज्य था जहां बदलाव की आवश्यकता थी और यह हो रहा है। गुलजार ने कहा कि पूरे देश में कई भाषाएं हैं। ऐसे में वर्ष में एक ऐसा आयोजन होना चाहिए जहां सभी भाषाओं के बीच गुफ्तगू हो सके।

इस मौके पर गुलजार ने अपनी कुछ रचनाओं का पाठ भी किया। इस मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सहित बिहार मंत्रिमंडल के कई मंत्री उपस्थित थे।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN