नक्सल प्रभावित इलाकों में पुलिस की निशुल्क शिक्षा सफल

बिहार के नक्सल प्रभावित इलाकों में प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता पाने में सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से पुलिस 2,000 से भी अधिक विद्यार्थियों को निशुल्क शिक्षा प्रदान कर रही है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जेल की सजा काट रहे नक्सली भी शिक्षा पाने के उद्देश्य से इन कक्षाओं में भाग ले रहे हैं।

रोहतास जिले के ग्रामीण छात्र एवं छात्राओं को विभिन्न विषयों के विशेषज्ञों द्वारा इंजीनियरिग, मेडिकल तथा बैंकिंग की प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए शिक्षा प्रदान की जा रही है। पटना से लगभग 150 किलोमीटर दूर रोहतास जिला नक्सल प्रभावित इलाका माना जाता है।

जिला पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने आईएएनएस से कहा, "अधिकतर विद्यार्थी जिले के ग्रामीण क्षेत्र से तथा कैमूर पठार के अंदरूनी इलाकों से हैं। नए भविष्य की तैयारियों को लेकर विद्यार्थियों की प्रतिक्रिया से हम खुश हैं।"

इस शिक्षण योजना की पहल करने वाले महाराज बताते हैं कि विभिन्न जेलों में सजा काट रहे 36 कैदी भी इन कक्षाओं का लाभ उठा रहे हैं।

उन्होंने कहा, "यह नक्सल प्रभावित इलाकों में विद्यार्थियों की मन:स्थिति में आए परिवर्तन को दर्शाता है। हमारे लिए भी यह आश्चर्यजनक है।"

कुल विद्यार्थियों में छात्राओं की संख्या 60 फीसदी के लगभग है। इस पर महाराज ने कहा, "हमारे लिए यह एक सकारात्मक दिशा में होने वाले विकास के समान है।"

महाराज ने बताया कि विद्यार्थियों को कुल 50 बैचों में पढ़ाया जाता है।

महाराज ने बताया कि मुफ्त शिक्षा प्रदान करने की यह योजना पुलिस द्वारा किए जाने वाले सामुदायिक कार्यो के अंतर्गत किया जा रहा है।

27 जनवरी से शुरू इस योजना की पहल करने वाले दल का हिस्सा रहे एक और पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि सुबह से लेकर शाम तक चलने वाली ये कक्षाएं रोहतास जिले के नौहट्टा गांव स्थित केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) छावनी में चलाई जा रही हैं।

महाराज ने बताया कि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) की सहायता से मुफ्त शिक्षा प्रदान करने की इस योजना की शुरुआत की गई, जिसमें विद्यार्थियों को इंजीनियरिग, मेडिकल तथा मैट्रिकुलेशन एवं इंटरमीडिएट की तैयारी करवाई जा रही है।

उन्होंने बताया कि आईआईटी के कुछ विद्यार्थी नक्सल प्रभावित इलाकों में विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करने पर राजी हो गए।

पिछले वर्ष महाराज ने ग्रामीण युवकों को सुरक्षा बलों में भर्ती होने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से बनाए गए पोस्टर में फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन की तस्वीर का इस्तेमाल किया था। इस पर अमिताभ ने बिना इजाजत उनकी तस्वीर के इस्तेमाल पर आपत्ति प्रकट की थी।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN