तेजस्वी यादव को सुशील मोदी मानते हैं 'बच्चा', जानें मुंह से क्यों निकल रहे हैं कड़वे बोल

पटना: बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को अभी भी बच्चा मानते हैं. सुशील मोदी से तेजस्वी यादव द्वारा पूछे गए सवालों के बारे में जब प्रतिक्रिया मांगी गई तब उन्होंने कहा कि वे अभी बच्चे हैं और उनकी सक्रियता केवल ट्विटर पर होती है.  सुशील मोदी ने कहा कि तेजस्वी के पास ट्वीट करने के अलावा क्या काम बचा है. सुशील मोदी के अनुसार- जब मौक़ा मिला तो तेजस्वी यादव चूक गए और या तो बिहार के बाहर या विदेश घूमते रहे. लगता है मोदी अभी तक तेजस्वी यादव के जब वो सरकार में थे उस समय के प्रतिक्रिया को नहीं भूले हैं. जब तेजस्वी ने मोदी द्वारा पूछे गए सवालों को यह कहकर टाल जाते थे कि उनके पास कई मंत्रालय के काम हैं और विकास के कामों से इतनी फुर्सत नहीं कि मोदी के आरोपों का जवाब दें.


हालांकि तेजस्वी यादव जबसे विपक्ष के नेता बने हैं, शुरू के एक महीने वे काफ़ी सक्रिय रहे. विधानसभा में विश्वास मत पर उनके भाषण की काफी तारीफ़ हुई थी. उसके बाद पार्टी की रैली के लिए उन्होंने अधिकांश जिलों का दौरा किया. फिर पटना की रैली अब तक की राजद की सबसे संघटित और बिना किसी विवाद के आयोजित की गई. सृजन घोटाले पर सरकार के खिलाफ हालांकि जितना आक्रामक होना चाहिए था, उसका अभाव दिखा. 

तेजस्वी अपने उप मुख्यमंत्री कार्यकाल में जहां अपने बड़े भाई तेजप्रताप यादव से हर मायने में बेहतर साबित हुए, वहीं  फिलहाल कई मामलों में आरोपी बनाए जाने के बाद पूछताछ के लिए एक महीने से अधिक समय से दिल्ली में कैंप कर रहे हैं. उनके पार्टी के समर्थकों को डर है कि कहीं होटल के बदले जमीन वाले मामले में सीबीआई चार्जशीट दायर न कर दे. जिससे पार्टी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. 

वहीं तेजस्वी का बचाव करते हुए राजद के प्रवक्ता मनोज झा कहते हैं कि मोदी का तेजस्वी को बच्चा कहना उनकी ये परेशानी दिखाता है कि उनके पास जवाब नहीं है. झा के अनुसार- तेजस्वी ने हर मौक़े पर साबित किया हैं कि वह अपनी पार्टी और कार्यकर्ताओं की उम्मीद पर खरे उतरे हैं इसलिये हम सुशील मोदी की बातों को ज्यादा अहमियत नहीं देते. मनोज झा का कहना है कि भाजपा के लोगों को परेशानी इस बात को लेकर है कि तेजस्वी यादव सोशल मीडिया पर इतना सक्रिय क्यों हैं.
तेजस्वी जब तक खुद आगे आकर अपनी आलोचना का जवाब नहीं देते उनके विरोधी उन पर हमला करते रहेंगे, लेकिन फ़िलहाल उनका सारा ध्यान अपने खिलाफ लंबित मामलों में जांच एजेंसी का सामना करना और कोर्ट से निर्दोष साबित होना होगा.

POPULAR ON IBN7.IN