बाल विवाह और दहेज के लिए विदेशी शासन जिम्मेदार : मोदी

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने सोमवार को भारत में समाजिक कुप्रथा जैसे बाल विवाह, दहेज और पुरदाह के लिए 'गुलामी' (विदेशी शासन) को जिम्मेदार ठहराया। मुस्लिम शासन का सीधे नाम लिए बिना उन्होंने कहा, "बाल विवाह, दहेज और पुरदाह जैसी समाजिक कुप्रथाओं का जन्म 700 से 800 वर्ष के गुलामी दौर के दौरान हुआ।"

बिहार में बाल विवाह और दहेज के खिलाफ बड़े स्तर पर अभियान की शुरुआत करते हुए उन्होंने कहा, "भारत में वैदिक काल या प्राचीन काल के दौरान बाल विवाह, दहेज और पुरदाह नहीं था।"

सुशील मोदी को हिंदुत्व राजनीति में माहिर या कट्टर नहीं माना जाता है। उन्होंने कहा कि समाजिक कुप्रथा देश में विदेशी शासन की देन है।

उन्होंने कहा कि भारत वह देश है जहां वैदिक से रामायण काल तक महिलाएं बराबरी का अधिकार रखती थी। इस तरह की समाजिक कुरीतियों का किसी धार्मिक किताब या हस्तलिपियों में वर्णन नहीं मिलता है।

मोदी ने कहा, " प्राचीन काल में महिलाएं समारोह के दौरान अपना जीवनसाथी खुद चुनती थी और यही वजह है कि कोई बाल विवाह या दहेज की कुप्रथा नहीं थी।"

POPULAR ON IBN7.IN