असम के ग्वालपाड़ा में तनाव बरकरार

गुवाहाटी: मेघालय की सीमा से लगते असम के इलाकों में मंगलवार को भी तनाव बरकरार रहा। इलाके में जनजातीय विद्रोहियों ने दो दिन पहले सात लोगों की हत्या कर दी थी। यह जानकारी अधिकारियों ने दी। असम सरकार ने ग्वालपाड़ा जिले में सुरक्षा बलों की 28 अतिरिक्त कंपनियां तैनात कर दी हैं और पुलिस को कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने में मदद के लिए जवानों को भेजा है।

गारो नेशनल लिबरेशन आर्मी (जीएनएलए) के विद्रोहियों ने रविवार की रात नागरिकों पर धावा बोल दिया और सात लोगों की हत्या कर दी तथा नौ अन्य को घायल कर दिया।

असम के चार मंत्रियों नीलमणि सेन डेका, रकीबुल हुसैन, हेमंत बिस्वास सरमा और राजीब लोचन पेगू ने गेंदाबारी इलाके का दौरा किया और पीड़ित परिवारों से मुलाकात की।

पीड़ित परिवारों को मंत्रियों ने अंतरिम अनुग्रह राशि का भुगतान भी किया।

असम के वन मंत्री रकीबुल हुसैन ने कहा, "हमने पुलिस और जिलाधिकारियों के साथ भी मुलाकात की और स्थिति की समीक्षा की।"

उन्होंने कहा, "असम सरकार ने पुलिस और जिला प्रशासन को विद्रोहियों के साथ सख्ती से निपटने के लिए कहा है। निर्दोष नागरिकों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए उपाय करने को कहा है।"

मारे गए लोगों के परिजनों को छह-छह लाख रुपये और गंभीर रूप से घायल लोगों को 50 हजार रुपये दिए जाएंगे। मामूली रूप से घायल हुए को 25 हजार रुपये दिए जाएंगे।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN