गुवाहाटी उच्चन्यायालय ने मिजोरम से न्यायाधीशों को वापस बुलाया

आइजोल: गुवाहाटी उच्च न्यायालय ने हाल ही में अदालत परिसर में भीड़ द्वारा की गई हिंसा के बाद मिजोरम के लुंगलेई जिले के जिला एवं सत्र न्यायालय से सभी न्यायाधीशों को वापस बुला लिया है, एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। जिला प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "गुरुवार को भीड़ ने जिला अदालत की इमारत में पत्थरों के साथ हमला बोल दिया था। इसके बाद गुवाहाटी उच्च न्यायालय के महापंजीयक एच. के. शर्मा ने शुक्रवार को एक आदेश जारी किया, जिसमें लुंगलेई जिला एवं सत्र न्यायालय के तीन न्यायाधीशों को वापस बुला लिया गया।"

जिन न्यायाधीशों को वापस बुलाया गया है, उनमें लुंगलेई जिला एवं सत्र न्यायाधीश आर. थांगा, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश हेलेन दावानगलीयानी और सिविल जज-सह-न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी आर. मालसावमडामगजूआला है। 

अधिकारी ने बताया कि रजिस्ट्रार जनरल ने भी लांगतलाई जिला सीनियर सिविल जज-कम-मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट लालदिनपुइया से पूछा कि उच्च न्यायालय से अगले आदेश तक लुंगलेई जिले में किसी भी सर्ट अदालत (पश्चिमी मिजोरम में) को नहीं लगाएं।

भीड़ ने गुरुवार को लुंगलेई जिला न्यायालय भवनों पर हमला किया और एक सिविल जज के सरकारी निवास में तोड़फोड़ की। एक 26 वर्षीय युवक को कथित तौर पर 27 अगस्त को लुंगलेई जिले में जोहुआनी इलाके में एक अन्य युवक की हत्या के मामले में पुलिस ने अदालत में पेश किया था। 

अदालत पर हमला करने से पहले, भीड़ आरोपी युवक को पेश करने की मांग की थी, लेकिन पुलिस ने उनकी मांग को ठुकरा दिया था। 

पुलिस ने हिंसा के सिलसिले में 17 लोगों को गिरफ्तार किया और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

मिजोरम के मुख्यमंत्री ललथनहावला और लुंगलेई जिले के मिजोरम बार एसोसिएशन ने अदालत की इमारतों पर हमले और एक न्यायिक मजिस्ट्रेट के सरकारी निवास पर तोड़फोड़ की निंदा की है। 

--आईएएनएस

  • Agency: IANS