आंध्र प्रदेश विधानसभा में 'कॉल मनी रैकेट' की गूंज

हैदराबाद: आंध्र प्रदेश विधानसभा में गुरुवार को कॉल मनी रैकेट का मुद्दा गर्माया रहा। इस कारण सदन में मुख्य विपक्षी पार्टी वाईएसआर कांग्रेस के दो सदस्यों को दो दिनों के लिए सदन से निलंबित कर दिया। कॉल मनी रैकेट कर्ज से जुड़ा है। इसमें कोई भी व्यक्ति कर्ज देने वाले को फोन कर कर्ज ले सकता है। कर्जदाता पैसे लेकर कर्जदार के घर जाता है और पैसे उसे सौंपकर संबंधित दस्तावेजों पर कर्जदार के हस्ताक्षर ले लेता है। इस शर्त पर कर्ज दिया जाता है कि कर्जदार किसी भी समय, स्थान पर फोन कर कर्जदाता से कर्ज वापस मांग सकता है। 

शीतकालीन सत्र के पहले दिन सदन की कार्यवाही बिना किसी कामकाज के स्थगित करनी पड़ी। वाईएसआर कांग्रेस इस स्कैंडल पर तत्काल चर्चा करने की मांग करते हुए सदन की कार्यवाही में अवरोध उत्पन्न किया।

सदन के सभापति कोडेला शिवाप्रसाद राव को दो बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी और तीसरी बार सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई।

वाईएसआर कांग्रेस के सदस्य सभापति के पोडियम के पास पहुंचे और इस स्कैंडल में सत्तारूढ़ तदेपा नेताओं के शामिल होने का आरोप लगाते हुए सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। 

विधाई कार्यमंत्री वाई.रामकृष्णाडु ने बी.शिवप्रसाद रेड्डी और डी.रामालिंगेश्वर राव के निलंबन के लिए प्रस्ताव रखा। सभापति ने दो दिनों के लिए दोनों सदस्यों के निलंबन की घोषणा की।

इससे पहले, मुख्यमंत्री एन.चंद्रबाबू नायडू ने कहा, "कॉल मनी रैकेट में शामिल लोगों पर कार्रवाई की जाएगी। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे कितनी ताकतवर हैं, किस पार्टी से संबंध रखते हैं, उन्हें किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN