आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में जारी है कैश की किल्‍लत

कैश का संकट आंध्र प्रदेश, कर्नाटक के साथ-साथ अरुणाचल प्रदेश में अब भी जारी है. हालांकि उत्तर प्रदेश के कुछ ग्रामीण इलाकों में कैश सप्लाई में सुधार की खबर है. आंध्र प्रदेश में कैश का संकट कई शहरों में जारी है. तिरूमला में देश के कोने-कोने से श्रद्धालू पहुंचे हैं लेकिन ATM में कैश ना होने से बेहद परेशान हैं. उन्होंने एनडीटीवी को बताया कि कैश की किल्लत एटीएम मशीनों तक सीमित नहीं है, बैंकों के ब्रांचों में भी कैश की उपलब्धता प्रभावित है.

दरअसल कैश के संकट से आंध्र प्रदेश कई महीनों से जूझ रहा है. मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने इस साल 14 फरवरी को ही चिट्ठी लिख कर सरकार से 5000 करोड़ कैश में मांगे थे. आरबीआई ने ये पैसा दिया भी था इस निर्देश के साथ कि उसका वितरण राज्य के हर हिस्से में किया जाए. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोकसभा में 16 मार्च 2018 को ये जानकारी दी.

वित्त मंत्री ने लोकसभा को लिखित में बताया था, "RBI ने बताया है कि अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 तक 51,523 करोड़ रुपया हैदराबाद में आरबीआई के ऑफिस भेजा गया जो पूरे देश में आरबीआई के आफिस में भेजे गए कैश में सबसे ज़्यादा था." ऐसे में ये सवाल उठता है कि ये कैश आखिर गया कहां?

 
 

जेटली ने लोकसभा को बताया था कि RBI ने सरकार को सूचित किया है कि देश के हर राज्य में RBI के ऑफिस में पर्याप्त कैश उपलब्ध करा दिया गया है और हालात की लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है. लेकिन संकट आज भी कई राज्यों में बरकरार है. आंध्र से लगे कर्नाटक में भी कैश संकट जारी है. बेंगलुरु में भी एनडीटीवी को ऐसे लोग मिले जो कैश ना मिलने से परेशान दिखे. दक्षिण ही नहीं, पूर्वोत्तर भारत में भी ये संकट दिख रहा है. अरुणाचल में भी लोग ख़ाली एटीएम की शिकायत करते मिले.

हालांकि उत्तर प्रदेश के कुछ ग्रामीण इलाकों में सुधार की खबर है. बाराबंकी के ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के मैनेजर कहते हैं, 'कुछ दिन पहले 5% से 10% तक कैश का संकट था जो अब दूर हो गया है.'

POPULAR ON IBN7.IN