आंध्र में बस में लगी आग, 40 की मौत

हैदराबाद: आंध्र प्रदेश के महबूबनगर जिले में एक वातानुकूलित बस में आग लग जाने से बुधवार तड़के इसमें सवार 45 लोगों की मौत हो गई और पांच अन्य घायल हो गए। यह जानकारी पुलिस ने दी। बेंगलुरू से हैदराबाद आ रही बस में महबूबनगर जिले के कोट्टाकोटा मंडल में पालेम के नजदीक सुबह लगभग 5.20 बजे पुलिया से टकरा जाने के बाद आग लग गई थी।

हादसे में चालक एवं सफाईकर्मी सहित सात लोगों की जान बच गई। घायल यात्रियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। चालक और सफाईकर्मी को किसी तरह की चोट नहीं आई है, और पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है।

महबूबनगर के पुलिस अधीक्षक नागेंद्र कुमार ने प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से बताया कि डीजल की टंकी के फट जाने से बस में फौरन आग लग गई।

शुरुआत में बस में यात्रियों की संख्या को लेकर भ्रम की स्थिति थी।

परिवहन मंत्री बोत्सा सत्यनारायण ने हैदराबाद में संवाददाताओं को मृतकों की संख्या 45 बताई है। उन्होंने बताया कि जब्बार ट्रैवल्स की वाल्वो बस में 43 लोगों के बैठने की क्षमता थी लेकिन उसमें 50 लोग सवार थे।

घटना के दौरान यात्री सो रहे थे, इसलिए उन्हें अपनी जान बचाने को कोई मौका नहीं मिला। अत्यधिक झुलस जाने की वजह से उनकी पहचान मुश्किल हो गई है।

पास के ग्रामीणों के मुताबिक, बस कुछ ही मिनटों में राख में तब्दील हो गई। पहली एंबुलेंस लगभग एक घंटे बाद पहुंची।

घटना में जिंदा बचे एक यात्री ने बताया कि कुछ लोगों ने बाहर निकलने के लिए शीशा तोड़ा, लेकिन अन्य लोग उतने भाग्यशाली नहीं थे। उसने बताया कि बस का दरवाजा बंद था, जिससे कई यात्रियों को बाहर जाने का रास्ता नहीं मिल पाया।

पुलिस की प्राथमिक जांच के अनुसार दुर्घटना बस के तेज रफ्तार में होने की वजह से हुई थी। परिवहन मंत्री ने कहा कि वाल्वो बसों की गति की कोई सीमा नहीं होती है।

बोत्सा ने कहा कि बस द्वारका रोड लाइन्स के नाम से अनंतपुर जिले में दर्ज है और जब्बार ट्रैवल्स ने इसे लीज पर लिया था।

पुलिस ने जब्बार टैवल्स के प्रबंधक को हैदराबाद में हिरासत में लिया है और महबूबनगर में उससे पूछताछ चल रही है।

पुलिस अधीक्षक नागेंद्र कुमार ने घटनास्थल का दौरा किया और बताया कि सिर्फ 29 यात्रियों की सूची मिल पाई है। माना जा रहा है कि अन्य यात्री हिंदूपुर और अनंतपुर में सवार हुए थे।

बस मंगलवार रात 10 बजे बेंगलुरू से निकली थी और बुधवार सुबह 6.30 बजे हैदराबाद पहुंचने वाली थी।

पुलिसकर्मियों और फोरेंसिक विशेषज्ञों ने मृतकों के जले हुए शवों को निकाल कर बेंगलुरू-हैदराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर घटनास्थल के नजदीक बनाए गए टेंट में रखा है। हैदराबाद के फोरेंसिक विशेषज्ञ इन शवों की पहचान के लिए इनका डीएनए परीक्षण करेंगे।

पुलिस ने तीन मृतकों की पहचान कर ली है।

महबूबनगर के जिलाधिकारी एम.गिरिजा शंकर ने कहा कि पांच यात्रियों को हैदराबाद के डीआरडीओ अपोलो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

कुछ यात्रियों के घबराए हुए रिश्तेदार उनकी जानकारी के लिए जब्बार ट्रैवल्स के कार्यालय में पहुंचे हैं। हालांकि, इसके पास यात्रियों की कोई सूची या अन्य जानकारी नहीं है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन.किरण कुमार रेड्डी ने जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को इस संदर्भ में पूरी जांच पड़ताल कर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए हैं।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, रेड्डी और आंध्र प्रदेश के अन्य नेताओं ने इस घटना पर हैरानी और शोक प्रकट किया है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

POPULAR ON IBN7.IN